Acharya Indu Prakash
Fashion Blog

It's common knowledge that a large percentage of Wall Street brokers use astrology.

Acharya Indu prakash

शुभ कार्य का सर्वश्रेष्ठ दिन-10 मार्च



ब्रज क्षेत्र में, विशेष रूप से मथुरा और वृंदावन में, फुलेरा दूज एक महत्वपूर्ण दिन है। फुलेरा दूज फागुन के महीने में शुक्ल पक्ष की द्वितीया के दिन मनाया जाता है।ज्योतिष की दृष्टि से फुलेरा दूज का दिन सभी दोषों से मुक्त है। इसलिए सभी शुभ कार्य विशेष रूप से शादी समारोह फुलेरा दूज के दिन किये जा सकते है।इस दिन के बाद से होली तक कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं। राधा कृष्ण का प्रेम भी फाल्गुन के माह में चरम पर था और गोपियों ने राधा-कृष्ण पर फूलों की बारिश कर उनके प्रेम को सहर्ष स्वीकार कर लिया था। जिससे फुलेरा दूज को राधा कृष्ण के मिलन का दिन भी माना जाता है अधिकतर विवाह इस तिथि को संपन्न किए जाते हैं।

Fulera Dooj is an important day in Braj and especially in Vrindavan. 'Fulera Dooj' is celebrated on 2nd date of shukla paksha in the month of Falgun.

According to astrologers, 'Fulera Dooj' is one such day that is devoid of all kinds of sins. Hence all the auspicious celebrations like marriage ceremonies can be fixed on this day.

After this day no auspicious works are scheduled till the festival of holi. On this day, the love of Radha and Krishna was on its full swing and all the gopi's accepted this happy relation of both of them by showering flowers. 'Fulera duje' or 'Fulera Dooj' is also considered as the day of meeting for both of them (god Krishna and goddess Radha) and hence maximum marriages are organised on this very day.



Advertise

Your AD Here

Related Articles


Contact Us

Now You can publish your articles with us. if selected it will be publised in our magazines after taking your conformation