Acharya Indu Prakash
Fashion Blog

It's common knowledge that a large percentage of Wall Street brokers use astrology.

Acharya Indu prakash

पितृदोष से मुक्ति भीष्माष्टमी व्रत



माघ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को प्रतिवर्ष भीष्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भीष्म पितामह ने अपने शरीर को छोड़ा था, इसीलिए यह दिन उनका निर्वाण दिवस है। माना जाता है कि इस दिन भीष्म पितामह की स्मृति के निमित्त जो श्रद्धालु कुश, तिल, जल के साथ श्राद्ध तर्पण करता है, उसे संतान तथा मोक्ष की प्राप्ति अवश्य होती है और पाप नष्ट हो जाते हैं। भीष्माष्टमी व्रत महत्व-इस व्रत को करने से पितृदोष से मुक्ति मिलती है। और संतान की कामना भी पूरी होती है। व्रत करने वाले व्यक्ति को चाहिए, कि इस व्रत को करने के साथ साथ इस दिन भीष्म पितामह की आत्मा की शान्ति के लिये तर्पण भी करें। और पितामह के आशीर्वाद से उपासक को पितामह समान सुसंस्कार युक्त संतान की प्राप्ति होती है।

The fast of Bheeshmaashtami is commemorated on the eighth day in the month of Maagh in the Shukla paksha .Bheeshma Pitamah left for heavenly abode on this day. This day is also called as Nirvana divas. There is a belief that followers who keep a fast on this day and does tarpan  with sesame, kusha and jal with complete devotion get blessed with obedient children and 'moksha'. Their all sins get completely washed.

All those who do fasting on this very day can get freedom from 'pitra dosha'. It is highly recommended that people doing fast on this day should also pray for the departed soul of Bheeshma Pitamah so that he gets peace in the heavenly abode. They should do tarpan by offering prayers for him. Such individual gets blessed with well obedient and cultured children.



Advertise

Your AD Here

Related Articles


Contact Us

Now You can publish your articles with us. if selected it will be publised in our magazines after taking your conformation