ज्योतिषहिंदी

पाँच मुखी रुद्राक्ष क्यों धारण किया जाता है ?

रुद्राक्ष भगवान शिव को अति प्रिय हैं | शिव जी ने रुद्राक्ष अपने अति प्रिय भक्तों के कल्याण के लिए बनाया है | मुख्यत: पंच मुखी रुद्राक्ष यानि पाँच मुखी रुद्राक्ष (5 Mukhi Rudraksha) में शिव जी (Shiv Ji) की सभी शक्तियाँ समाहित हैं | इस रुद्राक्ष का स्वामी गुरु (Jupiter) ग्रह होता है जिससे गुरु ग्रह की समस्त परेशानियाँ दूर हो जाती हैं |

अगर आप पाँच मुखी रुद्राक्ष (5 Mukhi Rudraksha) रुद्राक्ष को धारण करते हैं तो आपको बहुत लाभ प्राप्त होंगे |

इसे धारण करने से धारक पर पंच देवों की कृपा होती है |

– मान सम्मान (Respect) और धन (Money) प्राप्ति में यह रुद्राक्ष लाभदायक है |

– सभी पापों से मुक्ति के लिए इस रुद्राक्ष का इस्तेमाल होता है |

– हर प्रकार की नकारात्मकता (Negativity) से बचने के लिए यह कारगर है |

– इससे परिवार में सुख शांति आती है |

यह आपके आस पास एक सुरक्षा कवच बनाता है, जिससे बाहर की उर्जायें आपको हानि नहीं पंहुचा सकती |

अब बात करते हैं की पाँच मुखी रुद्राक्ष (5 Mukhi Rudraksha) की धारण विधि क्या है |

सबसे पहले, सोमवार के दिन प्रात: उठ कर नित्य क्रियाओं से निवृत हो जाएँ | शुद्ध जल से स्नान कर पूजा ग्रह को साफ़ करें और रुद्राक्ष का पूजन करें | इसके पश्चात रुद्राक्ष को किसी शिवलिंग से स्पर्श कराएँ | उसके बाद इसे धारण करें |

अगर आप 5 मुखी रुद्राक्ष (5 Mukhi Rudraksha) प्राप्त करना चाहते हैं तो Astro E Shop वेबसाइट पर प्राप्त कर सकते हैं | यहाँ पर सही नक्षत्रों में यंत्र, रुद्राक्ष और रत्न मीलते हैं |

अपने जीवन की किसी भी समस्या का समाधान जानने के लिए Best astrologer in India आचार्य इंदु प्रकाश जी (Acharya Indu Prakash Ji) से परामर्श हेतु 9971000226 पर सम्पर्क करें |

#Acharyainduprakash #Bhavishyavani #5mukhirudraksha #5facedrudraksha #Money #Respect #Bestastrolgeringurgaon

Leave a Response