ज्योतिषहिंदी

केतु के प्रकोप से बचें

वैसे तो केतु और राहू छाया ग्रह है, पर इनका प्रकोप काफी भयानक होता है | किन्तु ऐसा नही है की केतु ग्रह का प्रभाव हमेशा नकारात्मक हो, केतु ग्रह के प्रभाव सकारात्मक भी होते हैं | आध्यात्म, वैराग्य, मोक्ष, तांत्रिक आदि का कारक केतु होता है | कुंडली में केतु राहू से मिल कर काल सर्प दोष बनाता है |

केतु (Ketu Yantra) ग्रह का मनुष्य जीवन पर प्रभाव

Ketu_yantra

– केतु ग्रह अगर कमज़ोर हो तो कोई भी काम की शुरुआत करने पर वह सफल नहीं हो पाता, कोई ना कोई अड़चन काम को बाधित करती है |

– यह शारीरिक बीमारियाँ जैसे पैर, कान, रीढ़ की हड्डी, घुटने, लिंग, किडनी, जोड़ों के दर्द आदि रोगों को दर्शाता है |

– जीव जंतुओं में केतु भूरे या काले रंग के ज़हरीले जीवों को दर्शाता |

अगर आपकी कुंडली में केतु ग्रह कमज़ोर है तो आपको केतु यंत्र (Ketu Yantra) पहनना चाहिए | केतु यंत्र शत्रुओं के खिलाफ़ जीत दिलाता है और इसकी नियमित रूप से पूजा करने से दुसरे ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव कम होते हैं |

अगर आप केतु यंत्र (Ketu Yantra) प्राप्त करना चाहते हैं तो Astro E Shop वेबसाइट पर प्राप्त कर सकते हैं | इस पर सही नक्षत्रों में बने यंत्र, रुद्राक्ष और रत्न मिलते हैं |

जीवन की किसी समस्या का समाधान प्राप्त करने के लिए और आचार्य इंदु प्रकाश जी (Acharya Indu Prakash Ji) से परामर्श हेतु सम्पर्क करें |

#KetuYantra #Ketu #Acharyainduprakash #Bhavishyavani #Kundali #Horoscope #Astrology

Leave a Response