ज्योतिषहिंदी

क्या होता है कुंडली मिलान ?

हिंदू समाज में किसी भी विवाह से पहले वर और वधु की कुंडली मिलायी जाती है | इस प्रक्रिया को कुंडली मिलान (Kundali Milan, Match Making) कहा जाता है | कुंडली मिलाकर वर वधु के वैवाहिक जीवन का भविष्य देखा जाता है | कुंडली मिलाते समय वर वधु के दोषों का मिलान किया जाता है |
किसी भी विवाह से पूर्व कुंडली मिलाने से कई लाभ होते हैं | जैसे:-
– दोनों का स्वास्थ अच्छा रहता है |
– दोनों में से कोई आर्थिक कष्ट ना सहना पड़े |
– दोनों को ही संतानप्राप्ति हो |
इस कुंडली मिलन की प्रक्रिया में प्रमुख रूप से 8 घटकों का मिलन किया जाता है | इन 8 घटकों को एक अलग अंक से सम्बोधित किया है, जो की निम्न प्रकार से है |
1. वर्ण
Image result for कुंडली मिलान
2. वश्य
3. तारा या दिन
4. योनि
5. ग्रह मैत्री
6. गण
7. भकुट
8. नाड़ि
इन सभी अंकों का जोड़ करे तो 36 अंक प्राप्त होता है | वर वधु के इन 36 में से जितने ज्यादा गुण मिलते हैं, उनका वैवाहिक जीवन उतना ही उत्तम माना जाता है | अगर वर वधु के 30 से ज़्यादा गुण मिलते हैं तो वैवाहिक जीवन उत्तम माना जाता है, और अगर 25 से 30 गुण मिलते हैं तो अच्छा और अगर 20-25 मिलते हैं तो सामान्य माना जाता है | लेकिन अगर वर और वधु के 20 से कम गुण मिलते हैं तो वह रिश्ता शुभ नही माना जाता |
शादी से पूर्व आचार्य इंदु प्रकाश जी से अपना कुंडली मिलान (Kundali Milan, Match Making) कराने के लिए सम्पर्क करें |

#KundaliMilan #MatchMaking #Kundali #Marriage #worldsBestAstrologer #matchMaking #kundaliMatching #indiaTvAstrologer #vastuExpert #vastuConsultant

Tags : Kundali Milan

Leave a Response