आध्यात्मिकहिंदी

महाभारत से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

महाभारत तो आप सब लोगों ने ज़रूर पढ़ी होगी, लेकिन महाभारत से जुडी ऐसी बातें आप को नही पता होंगीं |

तो कृष्ण के भाई थे एकलव्य

कई लोगो को यह बात जानकार हैरानी होगी की एकलव्य वास्तव में कृष्ण के चचेरे भाई थे. एकलव्य देवश्रवा (वासुदेव के भाई) के पुत्र थे जो उनसे जंगल में खो गए थे. बाद में इनका लालन पोषण निशाद हिरण्यधनु ने किया.

महाभारत के लेखक वेदव्यास भी थे महाभारत के एक पात्र

जी हां. महाभारत की रचना करने वाले वेदव्यास भी महाभारत का ही एक भाग थे.  राजा शांतनु से शादी करने से पहले सत्यवती का ऋषि पराशर द्वारा मिलन से जन्मा  एक पुत्र था | कहानी के अनुसार ऋषि पराशर सत्यवती को देखकर मन्त्र मुग्ध हो गए और उनसे मिलना की इच्छा जाहिर की. पराशर को अनुमति देने से पहले, सत्यवती ने उनसे तीन इच्छाओं की मांग की;  इनमें से एक थी कि उनके संघ से जन्मा पुत्र महान ऋषि के रूप में प्रसिद्ध हो. इसके बाद सत्यवती ने यमुना में एक द्वीप पर एक पुत्र को जन्म दिया। इस पुत्र को कृष्ण द्वैपायन  कहा जाता था,  जो बाद में वेदव्यास के नाम से प्रसिद्ध हुए  – वेदों के संकलक और पुराणों और महाभारत के लेखक।

सभी कौरव नहीं थे पांडवो के खिलाफ

ऐसा नहीं है की सभी के कौरव एक जैसे थे और पांडवो के विरुद्ध थे. धृतराष्ट्र के दो पुत्र, विकर्ण और युयुत्सु ने न सिर्फ दुर्योधन के गलत कार्यों पर आपति जताई बल्कि द्रोपदी चीरहरण का भी काफी विरोश किया. ये दोनों युद्ध के पक्ष में भी नहीं थे लेकिन भाई से धोखा न कर इन्होने मज़बूरी में युद्ध किया और वीरगति प्राप्त की.

यमराज का अवतार थे विदुर

धर्म शास्त्रों का ज्ञाता और धृतराष्ट्र के भाई और मत्री विदुर यमराज के अवतार माने जाते है. महाभारत के अनुसार माण्डव्य ऋषि के श्राप के कारण यमराज को इंसान के रूप में जन्म लेना पड़ा.

तो इसलिए भाग नहीं ले पाया दुर्योधन द्रौपदी स्वयंवर में

दुर्योधन मह्त्वकांशी होने के बावजूद भी अपने वचन का पक्का था. कथा के अनुसार दुर्योधन ने अपनी पत्नी भानुमती को वचन दिया था की वह कभी दूसरी शादी नहीं करेगा. उस काल में एक से ज्यादा शादी करने का प्रचलन था. इसके बावजूद दुर्योधन ने अपना वचन निभाया और कभी दूसरा विवाह नहीं किया|

भीम के दांतों से आगे नहीं गया दु:शासन का खून

महाभारत के अनुसार, युद्ध समाप्त होने के बाद पांडव जब धृतराष्ट्र व गांधारी से मिलने गए। गांधारी दुर्योधन के अन्याय पूर्वक किए गए वध से बहुत गुस्से में थीं। भीम ने गांधारी को समझाया कि यदि मैं अधर्मपूर्वक दुर्योधन को नहीं मारता तो वह मेरा वध कर देता। गांधारी ने कहा कि तुमने दु:शासन का खून पिया, क्या वह सही था? तब भीम ने कहा कि- जब दु:शासन ने द्रौपदी के बाल पकडे थे, उसी समय मैंने ऐसी प्रतिज्ञा की थी। यदि मैं अपनी प्रतिज्ञा पूरी नहीं करता तो क्षत्रिय धर्म का पालन नहीं कर पाता। लेकिन दु:शासन का खून मेरे दांतों से आगे नहीं गया।

काले हो गए थे युधिष्ठिर के नाखून

भीम के बाद युधिष्ठिर गांधारी से बात करने के लिए आगे आए। गांधारी उस समय में क्रोध में थीं। जैसे ही गांधारी की नजर पट्टी से होकर युधिष्ठिर के पैरों के नाखूनों पर पड़ी, वह काले हो गए। यह देख अर्जुन श्रीकृष्ण के पीछे छिप गए और नकुल, सहदेव भी इधर-उधर हो गए। थोड़ी देर बाद जब गांधारी का क्रोध शांत हो गया, तब पांडवों ने उनसे आशीर्वाद लिया।

भीम कहते थे धृतराष्ट्र को भला-बुरा

युधिष्ठिर के राजा बनने के बाद अर्जुन, नकुल, सहदेव, द्रौपदी हमेशा धृतराष्ट्र व गांधारी की सेवा में लगे रहते थे, लेकिन भीम हमेशा धृतराष्ट्र को भला-बुरा कहता रहता था। इस प्रकार धृतराष्ट्र, गांधारी को पांडवों के साथ रहते-रहते 15 साल गुजर गए। एक दिन भीम ने धृतराष्ट्र व गांधारी के सामने कुछ ऐसी बातें कह दी, जिसे सुनकर उन्हें बहुत दुख हुआ। तब धृतराष्ट्र ने वानप्रस्थ आश्रम (वन में रहना) में जाने का निर्णय लिया। गांधारी ने भी धृतराष्ट्र के साथ वन जाने में सहमति दे दी। धृतराष्ट्र व गांधारी के साथ विदुर, संजय व कुंती भी वन चली गईं।

ऐसे हुई विदुरजी की मृत्यु

धृतराष्ट्र, गांधारी, कुंती व विदुर वन में रहते हुए कठोर तप कर रहे थे। तब एक दिन युधिष्ठिर सभी पांडवों के साथ उनसे मिलने पहुंचे। धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती के साथ जब युधिष्ठिर ने विदुर को नहीं देखा तो धृतराष्ट्र से उनके बारे में पूछा। धृतराष्ट्र ने बताया कि वे कठोर तप कर रहे हैं। तभी विदुर उसी ओर आते हुए दिखाई दिए, लेकिन आश्रम में इतने सारे लोगों को देखकर विदुरजी पुन: लौट गए। युधिष्ठिर उनसे मिलने के लिए पीछे-पीछे दौड़े। तब वन में एक पेड़ के नीचे उन्हें विदुरजी खड़े हुए दिखाई दिए। उसी समय विदुरजी के शरीर से प्राण निकले और युधिष्ठिर में समा गए। (क्योंकि महात्मा विदुर व युधिष्ठिर धर्मराज (यमराज) के अंश से पैदा हुए थे।)

एक रात के लिए जीवित हुए थे सभी योद्धा

जब युधिष्ठिर धृतराष्ट्र से मिलने वन में गए, उसी समय आश्रम में महर्षि भी वेदव्यास आ गए। उन्होंने कहा कि- युद्ध में मारे गए जितने भी वीर हैं, उन्हें आज रात तुम सभी देख पाओगे। महर्षि सभी को गंगा तट पर ले गए। रात होने पर महर्षि वेदव्यास ने सभी मृत योद्धाओं का आवाहन किया। थोड़ी ही देर में भीष्म, द्रोणाचार्य, कर्ण, दुर्योधन, दु:शासन, अभिमन्यु, घटोत्कच, द्रौपदी के पांचों पुत्र, आदि वीर जल से बाहर निकल आए। अपने मृत परिजनों को देख सभी के मन में हर्ष छा गया। सुबह होने पर वे पुन: अपने लोक में लौट गए। इस प्रकार वह अद्भुत रात समाप्त हुई।

कैसे हुई धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती की मृत्यु?

महाभारत के अनुसार, युद्ध के बाद धृतराष्ट्र व गांधारी पांडवों के साथ 15 साल तक रहे। इसके बाद वे कुंती, विदुर व संजय के साथ वन में तपस्या करने चले गए। एक दिन जब वे गंगा स्नान कर आश्रम आ रहे थे, तभी वन में भयंकर आग लग गई। दुर्बलता के कारण धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती भागने में असमर्थ थे। इसलिए उन्होंने उसी अग्नि में प्राण त्यागने का विचार किया और वहीं एकाग्रचित्त होकर बैठ गए। इस प्रकार धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती ने अपने प्राणों का त्याग कर दिया।

If you are facing problems in your carrier, married life, child problem or any other issue related to your life concern with Acharya Indu Prakash “Worlds Best Astrologer”. He is the most honest astrologer.

For More Details or Information Call – 9971-000-226.

To know more about yourself. watch ‘Bhavishyavani’ show.

Leave a Response