आध्यात्मिकहिंदी

जानिए यमुनोत्री मन्दिर का धार्मिक महत्व

यमुनोत्री धाम (Yamunotri Mandir) चार धामों में से एक हिमालय की पर्वत श्रृंखला पर स्थित है | चार धाम की यात्रा इसी धाम से शुरू होती है | यही चार धामों में से पहला धाम है | यमुनोत्री धाम (Yamunotri Mandir) का स्त्रोत जमी हुयी बर्फ की एक झील और चंपासर ग्लेशियर है |
यह नदी यमुना देवी और भगवान यम को समर्पित है | कहा जाता है की इस नदी में स्नान करने वाले को भगवान यम मृत्यु के समय ज्यादा तकलीफ नही देते |
यमुनोत्री धाम मन्दिर (Yamunotri Mandir) के मुख्य ग्रह में यमुना माँ की मूर्ति विराजमान है जो की संगमरमर की बनी हुई है | यहाँ पुरे विधि विधान से माँ यमुना की पूजा की जाती है | साथ ही यहाँ पिंडदान का बहुत महत्व होने के कारन यहाँ बहुत से भक्त अपने पित्रों का पिंडदान करने आते हैं |
बता दें की यमुना देवी सूर्य देव की पुत्री हैं और भगवान यम की बहन हैं | इसीलिए भाई दूज के दिन यमुना नदी में स्नान करने वाले भक्त को यमत्रास से मुक्ति मिलती है |
हर वर्ष मई से अक्टूबर महीनों के बीच लाखों भक्त यहाँ से अपनी तीर्थ यात्रा की शुरुआत करने करने आते हैं |
अपने जीवन की किसी भी परेशानी का समाधान प्राप्त करने के लिए आचार्य इंदु प्रकाश जी से परामर्श हेतु सम्पर्क करें |

#YamunotriMandir #CharDham #Yamuna #AcharyaInduPrakash #Astrology

Leave a Response