आध्यात्मिकहिंदी

स्कन्द माता

दुर्गा पूजा के पांचवे दिन कुमार कार्तिकेय की माता की पूजा होती सहै। जब दानवों का अत्याचार हद से ज़्यादा बढ़ जाता है तब माता सिंह पर सवार होकर संतो की रक्षा के लिए, दुष्टों का अंत करती हैं। माता ने अपने दो हाथों में कमल का फूल धारण किया हुआ है और एक भुजा में कुमार कार्तिकेय को अपनी गोद में लिये बैठी हैं। मां का चौथा हाथ भक्तों को आशीर्वाद देते हुए देख सकते है । यह पर्वत राज की पुत्री होने से पार्वती कहलाती हैं, महादेव की पत्नी होने के कारण माहेश्वरी कहलाती हैं और अपने गौर वर्ण की वजह से देवी गौरी के नाम से पूजी जाती हैं।

जो भक्तजन माता के इस स्वरुप को पूजते हैं, स्कन्दमाता उनको अपने पुत्र समान ही  प्यार करती हैं | अगर आप किसी प्रकार के ऐसे व्यवसाय में हैं जिसमे आपको अपनी वाणी का इस्तेमाल करने की ज़रूरत हो जैसे गायकी, शिक्षक, news anchor, public announcing, राजनीती तो अपनी आवाज़ को प्रभावशाली और दमदार बनाने के लिए बुध यंत्र या पन्ना बहुत फलदायी होगा |

स्कन्द माता का ग्रह बुध है | अगर आपको अपने व्यापार में उतार चढाव का सामना करना पढ़ रहा है तो आपको बुध यंत्र/ पन्ना पहनने से लाभ होगा | स्कन्द माता दिमाग को नियंत्रण में रखने में मदद करती है, तो अगर आपको दिमाग से सम्भंधित किसी प्रकार की समस्या है तो बुध यंत्र/ पन्ना धारण करने से समस्या में मदद मिलेगी | पन्ना या बुध यंत्र धारण करते समय इस मंत्र का जप भी करें |

ऊं ऐं ह्रीं क्लीं स्कंदमातायै नम:।

अगर आपको पन्ना या बुध यंत्र खरीदना है तो आप AstroEshop से ले सकते हैं | इस वेबसाइट पर आपको सही नक्षत्रों में बना यंत्र मिलेगा |

#SkandaMata #budh #panna #news #anchor #PublicAnnouncing #AcharyaInduPrakash #AIP #InduPrakashMishra #Bhavishyavani #IndiaTv #Astrology #BestAstrologer #Astrologer #Jyotish #Luck #Brahsapti #Love #AstroEshop

Leave a Response


Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /home/customer/www/acharyainduprakash.com/public_html/blog/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 492