ज्योतिषहिंदी

क्यों नहीं करना चाहिए होलाष्टक में शुभ कार्य

Image result for होलाष्टक acche kaam

शास्त्रों के अनुसार होलाष्टक (Holashtak) में शुभ कार्यों का प्रारंभ नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से कष्ट और पीड़ाओं की आशंका घेरती है और संबंधों में खटास भी आ सकती है। इस तरह की परेशानियों से बचने के लिए इन दिनों में शुभ कार्यों का निषेध किया गया है। फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी से लेकर होलिका दहन तक की अवधि को शास्त्रों में होलाष्टक कहा गया है। अर्थात होली से पहले के आठ दिन।

ज्योतिषाचार्य इंदु प्रकाश जी कहते हैं कि होलाष्टक (Holashtak) होली के रंगारंग पर्व के आगमन की सूचना देता है। होलाष्टक में किसी भी शुभ कार्य का निषेध माना गया है। इन दिनों को किसी भी संस्कार को संपन्न करने के लिए शुभ नहीं माना गया है। धर्म में आस्था रखने वाले इन दिनों में किसी भी शुभ कार्य के आयोजन से दूरी रखते हैं। गृहप्रवेश, विवाह और गर्भाधान संस्कार जैसे महत्वपूर्ण संस्कार इस अवधि में बिल्कुल संपन्न नहीं किए जाते हैं। लोग नए कार्य के शुभारंभ का ख्याल भी स्थगित कर देते हैं।

होलाष्टक की यह परंपरा उत्तर भारत में अधिक निभाई जाती है और दक्षिण भारत में यह कम ही देखने को मिलती है।  होलाष्टक (Holashtak) के आठ दिनों में शुभ कार्यों की वर्जना के ज्योतिष और पौराणिक दोनों ही कारण माने गए हैं। एक मान्यता है कि कामदेव ने भगवान शिव का तप भंग किया था | कामदेव की इस चेष्टा से रुष्ट होकर भगवान शिव ने फाल्गुन की अष्टमी तिथि के दिन ही उसे भस्म कर दिया था। कामदेव की पत्नी रति ने शिव जी की आराधना की और अपने पति कामदेव को पुनर्जीवन का आशीर्वाद पाया। महादेव से रति को मिलने वाले इस आशीर्वाद के बाद ही होलाष्टक का अंत धुलेंडी को हुआ। चूंकि होली से पूर्व के आठ दिन रति ने कामदेव के विरह में काटे इसलिए इन दिनों में शुभ कार्यों से दूरी रखी जाती है।

Remove all your problems in career, education, family, business etc by meeting the top astrologer in gurgaon Acharya Indu Prakash.

worlds best astrologer
Image result for होलाष्टक

कामदेव के इस प्रसंग के कारण ही होलाष्टक (Holashtak) में शुभ कार्य वर्जित हैं |होलाष्टक के पहले दिन जिस जगह होली का पूजन किया जाना है वहां गोबर से लिपाई की जाती है और उस जगह को गंगाजल से पवित्र किया जाता है। होलाष्टक में होली की तमाम तैयारियां अंतिम रूप लेती हैं और लोग उत्साह के साथ होली के त्योहार की प्रतीक्षा करते हैं। कुछ स्थानों पर तो होलाष्टक के आठ दिनों में होली मनाई जाती है या होली के रंग किसी न किसी रूप में बिखरने लगते हैं। ये आठ दिन अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग परंपराओं में गूंथ दिए गए हैं |ज्यादातर इन दिनों में अधिक सक्रियता से सिद्धि प्राप्ति के लिए श्रेष्ठ समय होलाष्टक के आठ दिनों को व्रत, पूजन और हवन की दृष्टि से अच्छा समय माना गया है।

माना गया है कि जो भी यजमान इन दिनों में हवन कार्य संपन्न कराते हैं उन्हें पुण्य की प्राप्ति होती है। किसी भी तरह की सिद्धि प्राप्त करने के लिए भी ये दिन श्रेष्ठ हैं। आत्मबल प्राप्त करने की दृष्टि से ये सर्वोत्तम समय है। इस समय भगवान की भक्ति में ध्यान लगाना सबसे उपयुक्त है और इस तरह उनकी कृपा प्राप्त की जा सकती है।

यदि आप जीवन से जुडी किसी भी अन्य समस्या का निदान चाहते हैं या रोग मुक्त होना चाहते हैं तो विश्व विख्यात ज्योतिषाचार्य (Best vastu consultant in gurgaon) इंदु प्रकाश जी से जुड़ कर अपनी समस्या का निदान प्राप्त कर सकते हैं।

#Bhavishyavani #Bestastrologeringurgaon #Astrology #Vastu #gurgaonbestastrologer #indiatvastrologer #holashtakblogs

1 Comment

Leave a Response