Rahukaal Today/ 04 June 2017 (Delhi)-10 June 2017

  • Mon
  • Tue
  • Wed
  • Thu
  • Fri
  • Sat
  • Sun
Rahukaal Today
8:50:45 - 10:35:37

8:31:22 - 9:51:45
Rahukaal Today
17:32:30 - 19:17:00

7:14:52 - 8:58:45
Rahukaal Today
7:05:37 - 8:50:15

12:19:30 - 13:57:22
Rahukaal Today
15:48:45 - 17:33:22

13:57:37 - 15:35:45
Rahukaal Today
12:19:30 - 14:04:07

10:42:30 - 12:15:00
Rahukaal Today
14:04:45 - 15:49:30

9:10:30 - 10:42:45
Rahukaal Today
10:35:15 - 12:20:00

16:50:00 - 18:22:00
Yearly Predictions | Astrology | Prediction | Bhavishyavani
Annual Predictions
There are no translations available.

                                                                                            Aries(मेष)                                                                       

मेष :-राशि वालों आपकी राशि का स्वामी ग्रह मंगल है। यह एक अग्नि तत्व राशि है। आप में बाहुबल का प्रदर्शन करने की प्रवृत्ति देखी जा सकती है। आपके भीतर लचीलेपन का अभाव पाया जाता है। कुछ बातों में आप में आलस्य भीदेखा जा सकता है और आप हर किसी से बात करना अपनी शान के खिलाफ समझते हैं और आत्मकेन्द्रित रहते हैं। आप वास्तविकता से मुँह मोड़कर चलते हैं और मुश्किलों से सामना करना अरुचिकर लगता है। इस राशि वालों के लिए उपयुक्त व्यवसाय सरकारी अधिकारी, वैज्ञानिक, वकील, प्रोफेसर, इंजीनियर, व्यापार और संस्था के प्रमुख के रूप में और दवाओं से संबंधित हो सकता है। आप दार्शनिक व्यक्ति होते हैं, साहित्य और ललित कला के प्रति विशेष रूचि रखते हैं। आपको कलाकृतियों के संग्रह का शौक रहता है।

फाइनेंस :-वित्तीय स्थिति के मामले में मेष राशि के जातकों के लिए वर्ष की पहली तिमाही का आरंभअसंतोषजनक रह सकता है। भूमि और माता की ओर से धन प्राप्त हो सकता है। दूसरी तिमाही आपको मिले-जुले फल देने वाली रह सकती है। कुछ दिक्कत हो सकती है। आप अपनी आर्थिक स्थिति को लेकर पहले से अधिक सक्रिय होंगे. अपनी अतिरिक्त क्षमता का प्रयोग व्यवसायिक क्षेत्र में करेंगे। तीसरी तिमाही में खर्चों की अधिकता बनी रह सकती है। आमदनी के स्रोतों में बढ़ोत्तरी होगी। धन स्थान का स्वामी अचानक सम्पत्ति दिलाने के भीयोग बना सकता है। साल के आखिरी तीन महीनों में वित्त संबंधी मामलों में आपको संतुष्टि मिलेगी। विलास की वस्तुओं की प्राप्ति हो सकती है, बोनस इत्यादि भीमिल सकता है। आप अपने कामों में आगे बढ़ते हुए खूब सारा पैसा और सम्मान पाने वाले हैं। आपको इस समय अपने भाई-बहनों की मदद करनी पड़ सकती है इसलिए हिचकिचाएं नहीं और खुले दिल के साथ दूसरों की मदद करने से आपकी रुकावटें दूर होंगी और आपका भाग्य भीआपका साथ देगा। परिवार में होने वाले कार्यक्रमों में भीआपका कुछ धन व्यय हो सकता है लेकिन आप उसकी पूर्ति करने में सफल रहेंगे।

कॅरियर :-करियर और प्रोफेशन के   नजरिये से साल की पहली तिमाही अनुकूल फल देने में सक्षम हो सकती है। नौकरी या बिजनेस में रुके हुए काम पूरे हो सकते हैं। कुछ समय के लिए कारोबार में बदलाव आ सकता है और इसके लिए यात्राएं भीकर सकते हैं। आपके कुछ कामों में मित्र आपकी मदद कर सकते हैं। साल की दूसरी तिमाही के आरंभमें साझेदार आपके मददगार सिद्ध हो सकते हैं। आप नए काम का विचार भीमन में ला सकते हैं। व्यापार के बड़े बड़े निर्णय लेने या नई प्लानिंग पर ध्यान देने के लिए यह जरूरी है कि आप पूरी जांच करके ही आगे बढ़ें. तिमाही के इस अंतिम पडा़व में आपके कार्यों में भाग्य आपका सहायक बनेगा और भाग्योदय होगा।   तीसरी तिमाही के दौरान आपको अपने कार्यक्षेत्र में सहकमिर्यों का साथ मिलेगा। काम के सिलसिले में विदेश जाने के मौके भीमिल सकते हैं। आपको नए काम मिल सकते हैं या आप कुछ नए सौदे कर सकते हैं। साल के आखिरी तीन महीनों में आपको काम के क्षेत्र में ज्यादा सुनहरे अवसर मिल सकते हैं। नौकरी में आपको उच्चपद की प्राप्ति भीहो सकती है।

दाम्पत्य सुख :-की दृष्टि से मौजूदा ग्रह गोचर आपकी स्त्री की हानि करने वाला है। ध्यान रखें की माता, बुआ और मौसी का आशीर्वाद आपकी स्त्री की रक्षा करेगा। वर्ष प्रवेश के समय पंचमेश का नवम स्थान पर गोचर हानि प्रद है। स्थान हानि करो जीव नियम के तहत गुरु महाराज आपके रोमांस में सेंध लगाते नजर आ रहें हैं। हालांकि शनि की दृष्टि आपकी मददगार है। दूसरी ओर चन्द्रमा की दृष्टि आपके दाम्पत्य जीवन में प्रेम रस घोल रही है। आपके जीवन में नया प्रेम दस्तक देने वाला है। अगर आप विवाहित हैं तो दाम्पत्य सम्बन्धों में मधुरता बढेगी। बेहतर रोमांस हासिल करने के लिए गणेष जी की उपासना करंे, कुत्ते को रोटी दंे, अपनी स्त्री से गाय दान करवाएं और हफ्ते में एक दिन मौन व्रत करें।

स्वास्थ्य :हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल के पहले तीन महीने सामान्य रहेंगे लेकिन आपको स्वास्थ्य का ध्यान रखने की आवश्यकता होगी। इस समय दाएं कंधे में दर्द की शिकायत बनी रह सकती है, आप इसे लापरवाही में ना लेकर ध्यान दें अन्यथा जरा सा दर्द विकट हो सकता है. इस समय आपके भाई बहनों का स्वास्थ्य भीप्रभावित रह सकता है और उनके कारण भीआपको अस्पताल के चक्कर काटने पड़ सकते हैं। दूसरी तिमाही में भीकुछ परेशानी बनी रहेगी। आपके स्वभाव में चिड़चिडा़पन बढ़ सकता है और क्रोध की अधिकता हो सकती है। हर लिहाज से अपना ख्याल रखें। तीसरी तिमाही में भीआपको पेट में गर्मी की शिकायत रह सकती है। मौसम में बदलाव से भीआपकी हेल्थ प्रभावित हो सकती है। जिन लोगों को शुगर की परेशानी है उन्हें इस समय अपनी पूर्ण देखभाल करनी चाहिए। साल के आखिरी तीन महीने आपको सिरदर्द की शिकायत दे सकता है। इस वर्ष स्वास्थ्य समस्याओं से मुक्ति हेतु आपके लिए सूर्य के मंत्रों का जाप करना हितकारी रहेगा। सूर्य मंत्र ऊँ घृणि सूर्याय नम: अथवा ऊँ ह्राँ ह्रीँ ह्रौँ स: सूर्याय नम: इन दोनों में से किसी भीएक मंत्र का जाप आपको सुबह के समय करना चाहिए।

 प्रेम संबंधों :- को लेकर यह समय कई प्रकार की स्थितियों को देने वाला है इस स्थिति में आप प्रेम संबंधों में विचारशील बने रहेंगे। आप किसी के प्रेम पाश में बंधे रहने की चाह रखना चाहेंगे। शनि के प्रभाव से आप कुछ तकरार में भीफंस सकते हैं। आपके संबंधों में वैचारिक मत•ोद उभर सकते हैं तथा कुछ न कुछ अलगाव की स्थिति उभरकर सामने आ सकती है। फरवरी में तिमाही मध्य से आपके रिश्तों में झगडेÞ बढ़ सकते हैं। अप्रैल, मई और जून में आप अपने प्यार से नाराज हो सकते हैं या कोई छोटे-मोटे मनमुटाव हो सकते हैं। प्यार और नए रिश्ते बनाने के लिहाज से जून काफी अच्छा रह सकता है। साल के आखिरी तीन महीने प्रेम संबंधों के लिए असंतोषजनक परिणाम देने वाले हो सकते हैं।

विद्याथिर्यों यदि आप मेष राशि के हैं तो आपके लिए वर्ष का आरम्भ कुछ बेहतर रहने वाला है। अपनी पढ़ाई में आप पूर्ण मन लगाकर ध्यान देंगे। आप यदि किसी प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं तो आपको अच्छे फल मिलने की सम्भावना बनती है। मध्य के दौरान एकाग्रता में कमी आ सकती है जिस कारण भटकाव की स्थिति उभर सकती है। जुलाई अंत के दौरान यदि आप शिक्षा के लिए विदेश जाने का सोच रहे हैं तो इसमें आप काफी हद तक सफलता पा सकते हैं। आप टेक्निकल क्षेत्र में भी कुछ रूचि ले सकते हैं। साल की अंतिम तिमाही का पहला तथा दूसरा भाग विद्याथिर्यों के लिए तनाव भरा रह सकता है। गलत मित्रों का साथ पाकर वे पढाई से विमुख हो सकते हैं। माता पिता को चाहिए कि इस समय वह बच्चों की शिक्षा की ओर विशेष ध्यान दें। आपके प्रयास और कडी़ मेहनत आपको सफलता दिलाने में मददगार होंगे।

उपाय:-पूरे वर्ष आपको हर रविवार सुबह के समय स्नानादि करने के बाद आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करना चाहिए। अगर हो सके तो आप रविवार के दिन खाने में नमक का त्याग करें। खाना तीन समय खा सकते हैं लेकिन बिना नमक का खाएं। इससे आपको घर-परिवार तथा कार्यक्षेत्र पर लाभमिलेगा, आपको यश की प्राप्ति होगी।


Taurus(वृष)


वृष :-वृषभ राशि वालों आप अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह बहुत अच्छी तरह से करते हैं। परिवार की सुख-समृद्धि के लिए जितना आपके वश में होता है उससे बढ़कर करते हैं। आपकी अपनी विचारधारा बहुत मजबूत होती है, आपकी एक खासियत यह भी है कि आप जो काम आरं•ा करते हैं उसे तब तक करते रहते हैं जब तक कि आप किसी परिणाम पर नहीं पहुंच जाते हैं। वृषभ राशि के स्वामी ग्रह शुक्र की गिनती सौम्य ग्रहों में होती है। इसका संबंध कला से है। शुक्र भोग का कारक है इसलिए सभी भोगवादी वस्तुएं इस ग्रह के अन्तर्गत आती हैं। शुक्र ग्रह के अन्तर्गत वाहन भी आते हैं आप पर्यटन संबंधी काम भी कर सकते हैं। फिल्म, फैशन, सुंदर सिले हुए कपड़े, मुद्रण, ग्राफिक्स व वेब डिजायनिंग आदि का काम भी कर सकते हैं. होटल अथवा रेस्तरां आदि का काम भी इस ग्रह के अन्तर्गत आता है. फोटोग्राफी, प्रशिक्षक अथवा किसी भाषा का शिक्षक और कवि भी इस ग्रह के अन्तर्गत ही आते हैं।

फाइनेन्स :-वृषभ वालों वित्तीय मामले में वर्ष की पहली तिमाही वित्तीय स्थिति के लिए काफी अनुकूल रह सकती है।  इस वर्ष धनेश आपके लाभभाव को प्रभावित कर रहा है जिस कारण आपके लाभमें वृद्धि के आसार नज़र आ रहे हैं। आपको अपने सहकमिर्यों से भी अच्छे लाभ की प्राप्ति हो सकती है। परिवार के सहयोग से भीलाभदायक स्थिति का फलादेश दिखाई देता है। आय के स्रोत बढेंगे और मुनाफा अच्छा रहेगा, परेशानियां भी दूर होंगी। लाभआपका बना रहेगा लेकिन इस लाभका आप मजा नहीं उठा पाएंगे, अधिक पाने की चाह आपकी इच्छाओं को तृप्त नहीं कर पाएगी। वर्ष की दूसरी तमाही में अचानक होने वाले खर्चे उभर कर सामने आ सकते हैं। आपको शेयर बाजार अथवा म्युच्वल फंड में निवेश करने में सतर्क रहना होगा। तीसरी तिमाही में खर्चों का बोझ कुछ कम हो सकता है।  नौकरी में प्रमोशन के योग बन सकते हैं जिससे आर्थिक लाभमें वृद्धि हो सकती है। साल के आखिरी तीन माह यानी अक्तूबर  से दिसंबर तक का समय आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सकती है और आप कुछ निवेश भीकर सकेंगे। साल के अंत तक आप कुछ प्रोपर्र्टी भीखरीदने का मन बना सकते हैं। लेकिन किसी बडे निवेश को करने से पहले बाजार की स्थिति को ध्यान में जरूर रखें।

कॅरियर :-करियर और प्रोफेशन के नजरिये से वर्ष की पहली तिमाही की शुरूआत किसी काम में नई प्रगत्ति या तेजी से हो सकती है। व्यवसाय में आपको बडे़ बिजनेस व डेवल्पर्स से मिलेने के मौके मिल सकते हैं जो आपके काम में आपकी मदद भीकर सकेंगे। लेकिन इसी के साथ आपको जोखिम लेने से बचना चाहिए, नौकरी में परेशानी भीझेलनी पड़ सकती है। साल की दूसरी तिमाही में ग्रहों के प्रभाव के कारण छोटे-छोटे कामों के लिये भीआपको ज्यादा मेहनत करनी पड़ सकती है। आप नौकरी में परेशानी का अनुभव कर सकते हैं इसलिए आप अपने लिए किसी नई नौकरी को ढूंढने के बारे में सोच सकते हैं। साल के आखिरी तीन महीने के दौरान आप अपने काम के सिलसिले में विदेश यात्रा भीकर सकते हैं।  इस माह में अधिक जोश दिखाना आपके लिये व्यवसायिक क्षेत्र में विवाद की स्थिति उत्पन्न कर सकता है। साल के अंत तक काम में उन्नति मिल सकती है. व्यापार से संबंधित प्रोजेकट रुक सकते हैं या उनमें कोई अडंगा डाल सकता है। लेकिन जल्द ही परेशानियां दूर हो जाएंगी आपको मुनाफा भीमिलने की उम्मीद बंधती है। साल की तीसरी तिमाही में आपको लोन लेने की आवश्यकता पड़ सकती है।

दाम्पत्य :- वृषभ वालों प्रेम संबंध को लेकर साल की पहली तिमाही सामान्य ही रहने वाली दिखाई देती है।  प्रेम प्रसंगों को आप विवाह का रूप देने का प्रयास कर सकते हैं। दूसरी तिमाही के आरंभमें आप जोश व उत्साह से भरे रहेंगे आपको नए लोगों से मिलने का मौका मिलेगा। आप गुप्त प्रेम संबंधों से दूर ही रहें वर्ना आपकी छवि खराब हो सकती है और परेशानी सहनी पड़ सकती है। जुलाई से सितंबर तक का समय अविवाहित लोगों के विवाह संबंध स्थापित कराने के लिए अनुकूल है। साल के आखिरी तीन महीनों में जिन लोगों को इस समय शादी की उम्मीद है उनकी इच्छा पूरी हो सकती है।

स्वास्थ्य :-हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से नये वर्ष की शुरुआत में स्वास्थ्य सामान्य बना रहेगा लेकिन तिमाही के शुरूआत बाद के समय में आपको गर्म-सर्द हो सकता है।  शरीर में गर्मी अधिक हो सकती है जिस कारण स्वास्थ्य कुछ खराब रह सकता है। साल की दूसरी तिमाही में आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। आपको पेट के संक्रमण हो सकते हैं या गैस्ट्रीक की समस्या से आप परेशान हो सकते हैं. इसलिए अपनी •ोजन संबंधी आदतों पर नियंत्रण रखें। जुलाई  से सितंबर की तिमाही में आपका स्वास्थ्य बेहतर  रहेगा। जिन व्यक्तियों को डायबिटिज की समस्या है उन्हें तिमाही के दूसरे भाग से अपने खानपान पर ज्यादा ध्यान देना होगा और तनाव से मुक्त रहने की कोशिश करनी होगी। साल के आखिरी तीन माह सेहत की दृष्टि से मिले-जुले फल देने वाली रह सकती है। इस दौरान आप बीमार ज्यादा नहीं रहेगें लेकिन खुद को स्वस्थ भीमहसूस नहीं करेंगे।मौसम में गर्मी के कारण आपको सिर दर्द और थकावट हो सकती है। आपको चाहिए कि आप प्रात: काल में सूर्य नमस्कार करें और कुछ योग क्रियाओं का सहारा लें इससे हेल्थ को फायदा मिलेगा।

एजुकेशन:- वृषभ वाले विद्यार्थियों के लिए साल के पहले तीन महीने कुछ मौज मस्ती के मूड वाला रह सकता है। इस समय पंचम भाव का स्वामी अपने से छठे स्थान में मौजूद है इस कारण आपको शैक्षिक प्रतियोगिता का अधिक सामना करना पड़ सकता है। दूसरी तिमाही में आप अपने क्षेत्र में टेक्नीकल शिक्षा का चयन कर सकते हैं। आपका मन अपनी क्षमता को प्रभावशाली रूप से दिखाने की चाहत वाला रह सकता है जिसमें आप अपने साहस और शक्ति का पूर्ण प्रदर्शन कर सकते हैं। जुलाई से सितंबर तक का समय पहले से बना भ्रम दूर होगा। प्रतियोगिताओं में स्वयं को स्थापित कर पाने के लिए आपने जो भीपरिश्रम किया है उसके परिणाम आपको अवश्य प्राप्त होंगे। वर्ष की अंतिम तिमाही में पंचमेश की स्थिति अनुकूल होने के कारण आपको धीरे-धीरे इसके प्रभाव की शुभता देखने को मिल सकती है। इस दौरान आपकी बुद्धि कुछ भ्रमित सी रह सकती है। लेकिन जल्द ही आप अपने लक्ष्यों के लिए अग्रसर होंगे

वृषभ वालों   परिवारिक नजरिये से साल के पहले तीन महीने मिले-जुले फल देने वाली रह सकते हैं। परिवार में किसी बात को लेकर चिंता बनी रह सकती है लेकिन मिल जुलकर आप इन दिक्कतों से पार पा लेंगे। दूसरी तिमाही में कुछ समय के लिए आपके छोटे-भाई बहनों के साथ आपके कुछ वैचारिक मत•ोद हो सकते हैं लेकिन यदि आप सकारात्मक भाव बनाने की कोशिश करेंगे तो स्थिति को नियंत्रण में रख सकते हैं।  तीसरी तिमाही का यह समय सामान्य होगा। आप पर कुछ ऐसे इल्जाम लगाए जा सकते हैं जिस कारण आपकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचे। साल के आखिरी तीन महीने परिवार में शुभकार्य हो सकते है। इस समय आप अपने परिवार के साथ कहीं लम्बी दूरी की यात्राओं पर भीजा सकते हैं।

उपाय:-आप प्रत्येक बृहस्पतिवार वर्ष भर केले के पेड़ की जड़ में जल अर्पित करें और जल में थोड़ा सा कच्चा दूध अवश्य मिला लें। शुद्ध घी का दीया जलाएँ और गुड़, चना व किशमिश का •ोग लगाएँ। केले के पेड़ के चारों ओर मौली का धागा भीलपेटते हुए परिक्रमा भीकरें। बृहस्पति चालीसा का पाठ अवश्य करें।


Gemini(मिथुन)


मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह है जिसे सभी ग्रहों में राजकुमार का दर्जा मिला हुआ है। यह राशि से द्वि- स्वभाव मानी जाती है। बुध के प्रभाव स्वरूप इस राशि के लोगों को बुद्धिमान व वाकपटु माना गया है। इस राशि का जातक विचारशील, परिश्रमी तथा बहुमुखी प्रतिभा का धनी होता है। करियर के नजरिये से मिथुन राशि का होने से आपके लिए मीडिया उचित है। इसके अतिरिक्त आप ज्योतिष, अकाउंट्स, आंकड़ों से जुड़े काम कर सकते हैं। आप साहित्य अथवा संपादन में भी अपना कैरियर बना सकते हैं। आप पुरानी इमारतों से संबंधित काम अथवा सिविल इंजीनियरिंग आदि में भीअपनी किस्मत आजमा सकते हैं। पुराने एंटिक पीस आदि से जुड़ा काम कर के अपनी आजीविका कमा सकते हैं। 

फाइनेंस :-वित्तीय स्थिति के नजरिये से कुम्भराशि वालों के लिए वर्ष के पहले तीन माह उतार-चढा़व का रह सकता है। आपको बाहर घूमने जाने का मौका भी मिल सकता है, मित्रों के साथ समय व्यतीत करने के मौके मिल सकते हैं। आपका यह समय कमाई के लिहाज से अच्छा रह सकता है। दूसरी तिमाही में आप काम के सिलसिले में बाहर भी जा सकते हैं। अगर कोई पुराना कर्ज है तो आप इस वर्ष उससे मुक्ति पा सकते हैं। प्रापर्टी के कामों में आपको अच्छा लाभ मिलने का संकेत दिखाई देता है। जुलाई से सितम्बर के बीच आपको अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाए रखने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ सकता है। आपकी आय के स्रोत बने रहेंगे पर आपको चाहिए कि किसी भीकाम को अधूरा न छोडें और न ही जल्दबाजी करें क्योंकि इसका प्रभाव आपकी आय पर भी होगा। साल के आखिरी तीन महीने में आप जमीन जायदाद खरीद सकते हैं। अगर आपने कोई काम शुरू किया है तो आपको कोई बडा़ सौदा मिल सकता है।

कॅरियर :-करियर और प्रोफेशन के नजरिये से साल की पहली तिमाही का आरंभ नौकरी और व्यवसाय के लिए मिले-जुले फल देने वाला होगा। जो भी काम आपके बन नहीं रहे थे उन्हें अब गति मिल सकती है। दूसरी तिमाही में नौकरी के हालात में सुधार होंगे, नए परिवर्तन अथवा नए काम की शुरुआत अच्छी रहेगी। तीसरी तिमाही बिजनेस और नौकरी के लिए कई उपलब्धियां देने वाला रह सकता है। साल के आखिरी तीन महीनों में आपको अपने सभी निणर्यों में अधिक समझ-बूझ से काम लेना उचित रहेगा। व्यापार के सिलसिले में कुछ यात्रा पर बाहर भीजा सकते हैं। कारोबारियों के लिए मुनाफा कमाने का समय है।

 स्वास्थ्य :-हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल के पहले तीन महीने बहुत अच्छे नहीं हैं। आपका स्वास्थ्य आप ही की लापरवाही के कारण बिगड़ सकता है। जिन लोगो को दिल की बीमारी की अथवा छाती संबंधी विकार हैं उन्हें अपना ख्याल ज्यादा रखना होगा। एकदम से किसी बात को लेकर खुशी अथवा दुख प्रकट ना करें। अपने आवेश को नियंत्रण में रखने का प्रयास करें। अक्टूबर में आपको पेट से जुड़े रोग भी परेशानी में डाल सकते हैं, यदि पहले कभी पेट की सजर्री हुई है तब आपको यह समय अपने स्वास्थ्य को लेकर लापरवाही में नहीं बिताना चाहिए। पेट में पथरी होने की संभावना भी बन सकती है इसलिए अपने पेट दर्द को हल्के में ना लें और अपना चेक-अप शीघ्रता से कराएं।

 प्रेम संबंधों :- के लिए वर्ष की पहली तिमाही का आरंभअनुकूल है। जो लोग अपने प्रेम का इजहार करना चाहते हैं उनके लिए तिमाही का पहला भाग ज्यादा अनुकूल सिद्ध हो सकता है। संबंधो को स्थाई तौर पर रखना चाहते हैं तो आप धीरे-धीरे आगे बढ़े, एकदम से रफ्तार पकड़ने से कुछ दिन बाद ही आप उकता सकते हैं। एक बात का ख्याल यह रखें कि आपके प्रेम संबंधों में अनुचित कदम भीआप इस समय उठा सकते हैं या आप इस समय लिव-इन-रिलेशनशिप में भीबंध सकते हैं. आप जो भीकरें लेकिन बाद में एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप ना लगाएं। अक्टूबर माह प्रेम संबंधो के लिए बिलकुल भीअनुकूल नहीं है। दिसम्बर में प्रेम संबंधों में स्वत: ही कुछ सुधार आने की संभावना बनती है।

विद्याथिर्यों:- वर्ष की आरंभिक तिमाही में शिक्षाथिर्यों के लिए बहुत अच्छे मौके हो सकते हैं जिनमें वह अपनी योग्यता का परिचय देने में सक्षम होंगे। दूसरी तिमाही में भीआप अपनी मेहनत में कटौती नहीं करेंगे। यदि आप किन्हीं कलात्मक अभिरूचियों से जुडे़ हैं तो आप अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रह सकते हैं। तीसरी तिमाही में आपको अपनी पढ़ा़ई की ओर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इस समय विद्याथिर्यों का मन अनेक बातों को लेकर भटक सकता है. आप कई विषयों में से किसी एक का चयन करने में दुविधाग्रस्त भीहो सकते हैं। साल के आखिरी तीन महीने छात्रों के लिए उतार चढ़ाव से भरे रह सकते हैं। यदि आप शांत चित और एकाग्रता के साथ अपने कार्य करेंगे तो तिमाही मध्य के बाद के समय आपको कुछ अप्रत्याशित परिणाम मिल सकते हैं। जो छात्र रिसर्च के क्षेत्र में काम कर रहे हैं उन्हें अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। 

विशेष:- मिथुन राशि वालों को पारिवारिक नजरिये से साल की शुरुआत अच्छी रहने वाली है। परिवार में सुख - समृद्धि बनाये रखने के लिये आपको अपने व्यवहार में बदलाव करना होगा। दूसरी तिमाही मे परिवार में चहल-पहल का माहौल बना रह सकता है। साल के अंत में प्रेम संबन्ध विवाह सूत्र में बंध सकते है, रिश्ते बनाने के लिये यह समय अच्छा है. परिवार के लिए खर्चों में बढ़ोतरी बनी रहने वाली है. गाडी या कोई मंहगा सामान आपके घर की शोभा बढा़ सकता है। तीसरी तिमाही में माता-पिता के साथ संबंध में तनाव की स्थिति उभर सकती है। इस समय आपकी सामाजिक छवि को भी धक्का लग सकता है। बच्चों का कैरियर के लिए गंभीर न होना आपके लिए चिंता का कारण बन सकता है। साल की अंतिम तिमाही में स्थिति में सुधार की संभावनाएं बनती दिखाई दे रही हैं। पैतृक संपत्ति को लेकर चल रहे कानूनी विवाद अब हल हो सकते हैं। दिसम्बर में जीवनसाथी के साथ घूमने-फिरने के मौके मिलेंगे और काम में बिजी होने पर भीअब आप अपने जीवन साथी के लिए कुछ समय निकाल ही लेंगे, इससे आप दोनों के मध्य मधुरता का भाव बढ़ेगा।

 

Cancer(कर्क)


कर्क राशि जल तत्व राशि है और इसका चिन्ह केकडा है। इस राशि के प्रभाव से आप भावुक प्रवृति के हो सकते हैं। आप अपने मित्रों के लिए जान तक न्यौछावर करने से भीपीछे नहीं हटते है। कर्क राशि के जातकों में कर्क का एक विशेष गुण देखा जा सकता है जैसे केकडा जब किसी वस्तु या जीव को अपने पंजों में जकड़ लेता है तो उसे आसानी से नही छोडता है, भले ही इसके लिये उसे अपने पंजे गंवाने पडे। कर्क राशि के व्यक्ति में अपने इसी स्वभाव के कारण जिस बात को मन से लगा लेते हैं और उसे त्याग नहीं पाते हैं। कर्क राशि का स्वामी चन्द्रमा है। इस राशि के स्वामी और विशेषताओं के फलस्वरूप जातक में सौम्यता व भावनात्मकता का भाव देखा जा सकता है। आप दवाओं और द्रव्यों का आयात, अन्वेषण और खोज, भूमि या खानों का निर्माण व विकास, जल से प्राप्त होने वाली वस्तुओं आदि, जन उपयोगी कम्पनियों में काम करके भीधन कमा सकते हैं। आप नेवी, दुग्ध उत्पाद, मछली उत्पादन, शहद, होटल व्यवसाय जैसे कामों से जुड़ सकते हैं। चित्रकला, जल और सिंचाई विभाग से संबंधित, व्यापार और वनस्पति विज्ञान, कपास, चावल और सफेद धातु तथा मून स्टोन से संबंधित क्षेत्र आप के लिए उपयुक्त हैं।

फाइनेंस :-वित्तीय मामलों में कर्क राशि वालों साल के पहले तीन महीनों में आपके आय तथा व्यय समान रहने की संभावना बनती है। फरवरी में धनाभाव के कारण परिवार में तनाव की स्थिति भीपैदा हो सकती है। दूसरी तिमाही में भीअनचाहे खर्चे आपका पीछा छोड़ने को तैयार नहीं होगें। आप गलत तरीको से धन कमाने का सोच सकते हैं। तीसरी तिमाही यानि जुलाई से सितम्बर के बीच धनागमन की ओर से आप निश्चिंतता का अनुभव कर सकते हैं। आपके सामने आय के कई स्तोत्र आ सकते हैं जिसे आप अपनी बुद्धिमत्ता के बल पर अपने पक्ष में कर सकते हैं। आप जो काम नियमित रूप से करते हैं उसके अलावा भीआनलाईन बैठकर अतिरिक्त काम की तलाश कर सकते हैं। अक्तूबर से दिसंबर तक फिजूल खर्च करने का दौर चलेगा। नवम्बर में यात्राओं पर खर्च का हो सकता है। इस दौरान आप बुद्धिमत्ता से धन का निवेश करें। जिन लोगो का संबंध जमीन के काम से है उनके लाभमें वृद्धि होगी।

कॅरियर :- करियर और प्रोफेशन के नजरिये से वर्ष के शुरुआती तीन महीनों में अच्छा आफर मिलने के कारण आप नौकरी बदलने की सोच सकते हैं। आपका यह निर्णय आपके लिए अच्छा ही रहेगा और आप नए स्थान पर जाने से स्वयं को ऊर्जावान भीमहसूस करेंगे। नए स्थान पर आरंभमें प्रतिद्वंद्वी भीआपके पैर जमने में दिक्कतें पैदा कर सकते हैं लेकिन आप अन्तत: उन पर जीत हासिल कर ही लेंगे। बिजनेस करते हैं तो आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। अप्रैल से जून तक का समय दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन जून में आपको कुछ उपलब्धियाँ प्राप्त हो सकती हैं। जुलाई से सितंबर तक का समय अपेक्षाकृत अधिक अनुकूल रहने की संभावना बनती है। व्यापार में लाभऔर नौकरी में पदोन्नति के साथ आपको अपने कार्यक्षेत्र में उपलब्धियाँ पाने के लिए पुरस्कृत भीकिया जा सकता है। साल के आखिरी तीन महीने काम का दबाव व अतिरिक्त बोझ का अनुभव कर सकते हैं। आपके साथ धोखा होने की संभावना भीबनती है। दिसम्बर आपके लिए अनुकूल सिद्ध हो सकता है।

 स्वास्थ्य :- हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल की पहली तिमाही अच्छा रहने की संभावना बनती है लेकिन मानसिक परेशानियाँ आपको बनी रह सकती है। गर्भवती महिलाओं को नियमित रूप से अपना चेक-अप कराते रहना चाहिए। अनैतिक संबंधो से बचना चाहिए अन्यथा आप गंभीर बीमारी के शिकार हो सकते हैं। आप यदि मानसिक परेशानियों व तनाव को कम करने का कोई प्रयास नहीं आपका तनाव बना रहेगा। वर्ष के आखिरी तीन महीनों में यह तनाव कटु वाणी के रुप में उभर कर सामने आएगा। महिलाओं को मूत्र अथवा माहवारी संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। दिसम्बर आपके लिए उचित कहा जा सकता है. इस समय आपके स्वस्थ रहने की संभावना बनती है। आपको जब कभीभीस्वास्थ्य संबंधी परेशानी का अनुभव अधिक होता है तब आप शनि तथा बुध के मंत्र जाप की एक माला रोज करें. शनि मंत्र ऊं शं शनैश्चराय नम: बुध मंत्र ऊं बुं बुधाय नम:।

प्रेम संबंध :- के दृष्टिकोण से साल की पहली तिमाही मिले-जुले फल देने वाली रह सकती है। दूसरी तिमाही में भीआपके प्रेम संबंधों की बात भीखटाई में पड़ सकती है। यदि आप इस समय किसी नए रिश्ते में बंधते हैं तो हो सकता है कि वह ज्यादा लम्बे न चलें क्योकि इस समय पंचमेश मंगल पीड़ित अवस्था में गोचर करेंगे। तीसरी तिमाही यानी जुलाई से सितंबर तक का समय भीप्रेम संबंधों के लिए समय अनुकूल नहीं कहा जा सकता। आपके प्रेम संबंधों में दूसरों की दखलंदाजी बढ़ सकती है। अगस्त से नवंबर  तक का समय आपको प्रेम संबंधों में कुछ अच्छे पल एक साथ बिताने के लिए मिल सकते हैं। गुरू की दृष्टि का प्रभाव होने पर आपके संबंधों में स्थिरता बनी रह सकती है। इस तिमाही में आपके प्यार को विवाह की स्वीकृति भीमिल सकती है।

विद्याथिर्यों :- कर्क राशि के विद्यार्थियों वर्ष की पहली तिमाही का आरंभतो आपके लिए अनुकूल रहेगा और वह अपने शैक्षणिक क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर के दिखाएंगे। दूसरी तिमाही का आरंभनकारात्मक रहेगा लेकिन उसके बाद आप कुछ राहत महसूस कर सकते हैं। आवारा किस्म के बच्चों के साथ अपना कीमती समय नष्ट न करें। तीसरी तिमाही के इस भाग में आपकी हरकतों की खबर आपके माता-पिता तक जा सकती है। आप अपनी हरकतों पर शर्मिंदा भीरह सकते हैं और पछतावे का अहसास भीहो सकता है। साल के आखिरी तीन माह में आप पढ़ाई का दबाव बढ़ा रहेगा।

उपाय:- अक्तूबर 2015 तक आपकी कुण्डली में शनि की साढ़ेसाती का अंतिम चरण रहेगा, इसलिए आप शनिवार को शनि के मंत्र जाप तथा शनि स्तोत्र आदि का पाठ और दान कर सकते हैं। प्रतिदिन सुबह के समय गणेश जी की पूजा नियमित रूप से करें. अपनी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ बनाने के लिए आपको प्रतिदिन लक्ष्मी चालीसा का पाठ सुबह करना चाहिए।

 

Leo(सिंह)


सिंह राशि का स्वामी सूर्य सभीग्रहों में राजा माना गया है। सिंह राशि के होने से आप सेना, पुलिस, सुरक्षाबल, खिलाड़ी़, सर्जन अथवा धातु से संबंधित कार्य कर सकते हैं। प्रशासनिक विभाग में कार्य करने वाला, वन्य विभाग में कार्यरत, चिकित्सा में अथवा आइएएस या नेता के रूप में कार्यरत हो सकते हैं। खेलकूद में, नौसेना रक्षक, संवादक या उपदेशक, नेता, फाईनेंस में, होटल, रेस्तरां, चिकित्सा, कृषि और बिजली के उपकरणों के क्षेत्र में सभी कार्य कर सकते हैं। सिंह राशि के व्यक्ति क्रिकेट खेलना पसन्द करते हैं, आप मिलनसार होते है| इसलिए आपके भीतर हर जगह सर्वोपरि रहने की आदत पाई जाती है। आपको स्वतंत्र व स्वच्छंद रहने की आदत होती है और इसलिए आप कुछ जिद्दी, घमंडी तथा अहंकारी होते हैं। इसलिए जल्द ही लोगों में घुलमिल जाते है। आपमें नेतृत्व व संगठन के स्वाभाविक गुण होते हैं अत: आप संगठन के बड़े-बड़े कार्य, शालीनता व गरिमापूर्ण ढ़ग से करने में सक्षम होते हैं।

फाइनेंस :-फाइनेंस के नजरिये से सिंह राशि वालों के लिए वर्ष के प्रारम्भिक महीने अनुकूल फल देने वाले हैं। आपको अपने संबंधियों से आर्थिक लाभ प्राप्त होंगे। अचानक कुछ धन की प्राप्ति भी हो सकती है। मार्च माह में आपके कार्यों में कुछ सुस्ती आ सकती है लेकिन आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार बना रहेगा। आप अपने लिए कुछ बचत भी करने की योजना भी बनाएंगे। अप्रैल, मई जून में लंबी यात्राओं का योग है। वर्ष के अंतिम महीनों में ग्रहों की स्थिति के अनुरूप आप किसी बुरी आदतों के कारण भी अपना धन व्यर्थ में गंवा सकते हैं। आपका अधिकतर धन अनैतिक कार्यों की ओर भी लग सकता है। आप जुआ, सट्टा अथवा नशीले पदार्थों की ओर भी आकर्षित होकर अपना समय और धन दोनों ही खराब कर सकते हैं। परंतु आपका साथी आपके लिए सहारा बनकर उभर सकता है।

कॅरियर :-कैरियर की दृष्टि से सिंह राशि वालों के लिए यह समय अनुकूल रह सकता है। आपके उच्च अधिकारियों द्वारा आपको प्रशंसा प्राप्त हो सकती है। आप अपने कार्य क्षेत्र में अपने सहयोगियों से आगे बढ़कर अनुकूल तथ्यों को अपनाने में सफल रहेंगे। इस समय आप अपने काम में कुछ नए विचार ला सकते हैं, आपको भाग्य का साथ प्राप्त होगा। नौकरी में पद्दोन्नति के अवसर मिल सकते हैं, परंतु हो सकता है कि इस बदलाव में आप स्वयं को संतुष्ट न पाएं। यदि आप नौकरी की तलाश में हैं या नई नौकरी के लिए आवेदन करने का सोच रहे हैं तो आपको मार्च से पहले ही ज्वाईनिंग अथवा आवेदन करना चाहिए क्योंकि बाद के समय में आप शायद अपने काम में स्थिरता न पा सकें। कैरियर के दृष्टिकोण से जुलाई के बाद का समय आपके अनुकूल हो सकती है। साल के अंतिम महीनों में नौकरी पेशा लोगों के लिए परेशानी हो सकती है। इस समय नीच के शुक्र के साथ सूर्य और राहु की स्थिति काम काज में व्यवधान देने वाली रह सकती है।व्यापार से जुडे़ लोगों के लिए यह समय अनुकूल नहीं है। इस समय आपको अपने काम पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी। वर्ष के आरम्भ में आप अपने व्यवसाय में कुछ कुचालें •ाी चल सकते हैं। कूटनीति के साथ काम ले सकते हैं। साझेदारी में व्यवसाय करने वाले अधिक सतर्क रहें। यदि आपका व्यवसाय विदेशों से भी है तो आपको वहां से ला•ा प्राप्त हो सकता है। राजनीति से जुड़े लोगों के लिए कुछ अच्छे अवसर प्राप्त हो सकते हैं। आपको अच्छे मौके मिल सकते हैं।

स्वास्थ्य :-स्वास्थ्य की दृष्टि से सिंह राशि के जातकों के लिए जनवरी, फरवरी और मार्च अनुकूलता नहीं है। स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है क्योंकि आपके राशि स्वामी मंगल छठे भाव में गोचर कर रहे हैं। बीमारी के सन्दर्भ में कुछ अनिश्चितता बनी रह सकती है। फरवरी माह में मंगल तुला राशि में प्रवेश करेंगे जिस कारण राहु और शनि के साथ इनका युति संबंध बनेगा। यह स्थिति आपके गुस्से में वृद्धि करने वाली हो सकती है, आपको क्रोध अधिक आ सकता है क्रोध पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता है। इस समय अंगारक योग भी बन रहा है इसलिए स्वास्थ्य पर पूर्ण ध्यान देने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य के नजरिये से इस तिमाही में सेहत पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है. आपको चाहिए कि आप किसी भी बुरी लत से दूर रहें |

प्रेम संबंध:- प्रेम संबंधों के लिए यह साल मिलेजुले फल देने वाला होगा। इस अवधि के दौरान पंचम भाव, सप्तम भाव और नवम भाव का संबंध उभरकर सामने आ रहा है इस कारण से आपके प्रेम संबंधों की शुरूआत हो सकती है या आपके प्रेम संबंध विवाह का रूप ले सकते हैं। इस समय आपके प्रेम संबंध आपके लिए भाग्यदायक हो सकते हैं। मार्च माह के अंत के दौरान आपके संबंधी आपके प्रेम संबंधों में व्यवधान उत्पन्न करने की कोशिश कर सकते हैं। इस समय आपको किसी भी जल्दबाजी से बचना चाहिए। अप्रैल में आपको प्रेम संबंधों को लेकर सचेत रहने की आवश्यकता है। वर्ष के अंतिम महीनों में आपका साथी आपके लिए उपयुक्त सहारा बनेगा। आपको उससे सुख की अनुभूति प्राप्त होगी और वह आपके प्रेम को समझने वाला होगा। 

विद्यार्थियों :- के लिए वर्ष की पहली तिमाही अनुकूल है। आपका मन पढ़ाई की ओर लगा रहेगा। आपमें अपने कलात्मक गुणों को निखारने का भीमौका मिल सकता है। साल की दूसरी तिमाही में आपको रूकावटों का सामना करना पड़ सकता है। नीच के बुध के साथ सूर्य की स्थिति आपकी बुद्धि और वाणी को प्रभावित करने वाली रह सकती है। आपको स्वयं पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता है तभीआप अपनी स्थिति पर खरे उतर सकते हैं। तीसरे तिमाही में आपको व्यर्थ के क्रोध से बचना चाहिए तथा शांत रूप से सभीबातों को समझने की कोशिश करनी चाहिए अन्यथा आपकी पढाई प्रभावित हो सकती है। साल की आखिरी तिमाही के आते-आते विद्यार्थी वर्ग को राहत की प्राप्ति हो सकेगी। पढ़ाई द्वारा सफलता और सम्मान की प्राप्ति हो सकेगी।

सामान्यतया :- सिंह राशि वालों यात्रा की दृष्टि से साल के आरंभकी तिमाही में अपने जीवन साथी के साथ कहीं दूर घूमने जाने का विचार कर सकते। इस समय के ग्रहों की स्थिति के अनुरूप आपको यात्राओं से कष्ट अधिक होने की संभावना अधिक बनती है। दूसरी तिमाही असंतोषजनक रह  सकता है। तीसरी तिमाही में आपको यात्रा करने के कई मौके प्राप्त होंगे। साल के आखिरी तीन महीने में यात्राओं का अनुकूल फल मिलने की संभावना बनती है।सिंह राशि वालों परिवार के संदर्भमें साल की पहली तिमाही आपके अनुकूल है। दूसरी तिमाही में कई प्रकार के व्यवधान झेलने पड़ सकते हैं। इस समय बुध की नीच की स्थिति के कारण आपकी बौद्धिकता प्रभावित हो सकती है। तीसरी तिमाही को भीबहुत अनुकूल नहीं माना जा सकता है। सितम्बर माह फिर भीठीक रहेगा लेकिन अक्टूबर में मनमुटाव हो सकता है। इस तिमाही में कोई अप्रिय समाचार आपको दुखी कर सकता है। आपके घर में रिश्तेदारों का आना-जाना भीलगा रह सकता है। जिससे आपको शांत वातावरण का अभाव महसूस हो सकता है।

उपाय :- सिंह राशि वालों पूरे वर्ष आपको हर मंगलवार व शनिवार को नियमित रूप से सुंदरकाण्ड का पाठ करना चाहिए। इसके अलावा नियमित रूप से आपको संकट मोचन का पाठ संध्या समय में करना चाहिए।

Virgo(कन्या)


कन्या राशि का राशि स्वामी बुध ग्रह है। इसलिए इस राशि के व्यक्ति सौम्य, गुणी, वाकपटु, चतुर, चालाक व हर काम करने में निपुण होते हैं। ग्रहों में बुध को राजकुमार की उपाधि प्राप्त है, इसलिए आप सदैव ऊर्जावान बने रहते हैं । द्वि-स्वभाव होने से आप बहुत बार दुविधा में फंसे रहते हैं लेकिन आप सदा ही दूसरों की सहायता करने को भीतत्पर रहते हैं। आप अच्छे लेखक हो सकते हैं, आपको ललित कलाओं से भीबहुत प्यार होता है। इसके अलावा आप कूतनीतिज्ञ, संचार व गणित व आंकड़ों से जुड़े कामो में रुचि रख सकते हैं। आप ज्योतिष विज्ञान को भी अपने व्यवसाय का क्षेत्र चुन सकते हैं। अकाउंटस, क्लर्क, संपादक आदि भी हो सकते हैं। मनोवैज्ञानिक, वायुयान चालक अथवा चिकित्सक भीहो सकते हैं। व्यापार आदि में भीरुचि   रह सकती है अथवा दुकान भी खोल सकते हैं।

फाइनेंस :-आर्थिक दृष्टि से कन्या राशि के जातकों के लिए साल का आरंभउतार-चढाव वाला रह सकता है। इस माह आपका धन अपने छोटे भाई-बहनों के ऊपर और अपनी समस्याओं के निवारण हेतु खर्च करना पड़ सकता है। कर्ज लेने के कारण चिंता बढ़ सकती है। जहां तक संभव हो अपव्यय रोकने की कोशिश करें। अप्रैल से जून तक का समय आपकी आर्थिक स्थिति प्रबल बनने के योग बन रहे हैं। यदि आप अपने प्रयासों में लगे रहेंगे तभीकुछ प्राप्ति संभव है अन्यथा बैठे रहने से कोई फायदा नहीं होगा। जुलाई से सितंबर तक का समय मिले-जुले फल देने वाला है। पैसों से संबंधित परेशानियां काफी हद तक दूर हो सकती हैं। अक्तूबर से दिसंबर का समय वित्त संबंधी मामलों के लिए अनुकूल रहेगा। आर्थिक स्थिति में मजबूती मिलेगी। पाप ग्रहों की दृष्टि के प्रभाव से इस वर्ष अपनी यात्रा में आप कुछ असहज महसूस कर सकते हैं। गुरू की स्थिति के कारण कुछ लम्बी यात्राओं के संयोग भीबन सकते हैं। मार्च में आप किसी धार्मिक स्थल या गुप्त यात्रा पर भी जा सकते हैं। साल के अंतिम तीन महीने यात्रा के संदर्भ में आपको अच्छे फल देने वाला हो सकता है।

कॅरियर :-कैरियर और प्रोफेशन दृष्टि से कन्या राशिवालों के लिए जनवरी से मार्च तक की तिमाही औसत स्तर की ही रहने वाली हो सकती है। इसके विपरीत अप्रैल से जून के बीच कई प्रकार के बदलाव देखने पड़ सकते हैं। दो ग्रहों की एक दूसरे पर दृष्टि के प्रभाव स्वरूप आप अपने क्षेत्र में अनुकूल फलों को प्राप्त करने में कुछ कमी का अनुभव कर सकते हैं. परंतु फिर भीकहीं-कहीं से कुछ सुधार की स्थिति बन ही जाएगी। दो ग्रहों की उच्च स्थिति के कारण व्यवसायिक लाभबाधित होकर प्राप्त हो सकेंगे। जुलाई से सितंबर के बीच अभीतक की परेशानियों पर विराम लग सकता है। इसी दौरान ट्रैवल भीकर सकते हैं। विदेश जाने के मौके भीमिल सकते हैं। साल के अंतिम तीन महीनों में आपके पास काम की अधिकता होगी। कर्म भाव पर ग्रहों की दृष्टि अस्थिरता को दिखाती है, बदलाव होने की संभावना बनी हुई है। कारोबार में तेजी आने वाली है।

 दाम्पत्य सुख :-प्रेम संबंधों के मामले में वर्ष की पहली तिमाही मिश्रित रहेगा। दूसरी तिमाही के आरंभमें आपके दांपत्य जीवन में मधुरता का अभाव बना रह सकता है और दोनो के मध्य दूरियाँ अधिक बढ़ने की संभावना बनती है, बुद्धिमत्ता से काम लें। तीसरी तिमाही के आरंभमाह में आपके संबंध डांवाडोल से ही बने रहने की संभावना बनती है। इस तिमाही में आप एक साथ कई लोगों से फ्लर्ट कर सकते हैं। साल की आखिरी तिमाही में आप अनैतिक संबंधों में फंस सकते हैं। तिमाही के अंत तक आपके प्रेम संबंध फिर से पटरी पर आने की संभावना बनती है।

सेहत:- हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से जनवरी से मार्च तक पाप ग्रहों के प्रभाव स्वरूप आपको स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। यह वर्ष स्वास्थ्य की दृष्टि से ज्यादा अच्छा नहीं है क्योंकि आपकी साढ़ेसाती का प्रभाव भीबना रहेगा जिससे आपके कामों में रुकावट अथवा बाधा होने से आप मानसिक रूप से ग्रस्त रह सकते हैं और यही मानसिक परेशानी आपकी शारीरिक परेशानी का कारण बन सकती है। साल के आखिरी भाग में आपके स्वभाव में क्रोध की अधिकता बढ़ सकती है, जिस कारण आप मन से खिन्न रह सकते हैं। आपके पिता का   स्वास्थ्य भीबाधित हो सकता है। शत्रुओं की चालें आपको मन से थका सकती हैं जिस कारण आप अपने स्तर का प्रदर्शन करने में रुकावट का अनुभव कर सकते हैं। 

विद्यार्थि:-कन्या राशि के विद्यार्थियों वर्ष की पहली तिमाही का आरंभतो आपके लिए अनुकूल रहेगा और वह अपने शैक्षणिक क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर के दिखाएंगे। दूसरी तिमाही का आरंभनकारात्मक रहेगा लेकिन उसके बाद आप कुछ राहत महसूस कर सकते हैं। आवारा किस्म के बच्चों के साथ अपना कीमती समय नष्ट न करें। तीसरी तिमाही के इस भाग में आपकी हरकतों की खबर आपके माता-पिता तक जा सकती है। आप अपनी हरकतों पर शर्मिंदा भीरह सकते हैं और पछतावे का अहसास भीहो सकता है। साल के आखिरी तीन माह में आप पढ़ाई का दबाव बढ़ा रहेगा।

सामान्यतया :-यात्रा की दृष्टि से वर्ष का आरम्भअनुकूल कहा जा सकता है। कुछ यात्राएं आप अपने गुरु से मिलने के लिए भी कर सकते हैं। अप्रैल से जून के बीच यात्राओं से बचें। यदि बहुत ही आवश्यक है तब आप दिशाशूल का विचार कर के आगे बढ़े। जुलाई की यात्रा से आपको हानि और अगस्त माह में यात्रा करने से लाभ होगा। साल के आखिरी तीन महीनों में की गई यात्राओं से आपको परेशानी अधिक होगी और लाभ कम होगा।परिवार के नजरिये से साल की पहली तिमाही में आपको मिले-जुले फल मिलने की संभावना बनती है। इस पूरी तिमाही में मंगल का प्रभाव आपके लग्न और दूसरे भाव पर ही रहेगा जिससे आपके घर के सुख में, कुटुम्ब में तथा दांपत्य जीवन में कलह रहने की संभावना बनती है. मंगल आपकी कुंडली के लिए अशुभहै और इसकी दृष्टि आपके लिए प्रतिकूल फलों को प्रदान करने वाली रह सकती है. माता के साथ वैचारिक मत•ोद रहेंगे और यह मत•ोद झगड़ो का रूप भीले सकते हैं। आपकी संतान भीआपके हक में नहीं रहेगी। इस तिमाही के अंतिम भाग में आप समय को संयम से निकालने का प्रयास करें क्योकि इस समय घर में कलह क्लेश   अथवा अप्रिय समाचार सुनने को मिल सकता है। दूसरी तिमाही भीदांपत्य जीवन के लिए उपयुक्त नहीं है। जुलाई से सितंबर तक का समय आपके लिए शुभफल प्रदान करने वाली सिद्ध होगी। वर्ष की अंतिम तिमाही के पहले भाग में आपको मानसिक कष्टों का फिर से सामना करना पड़ सकता है, जो काम आपने नहीं किया है उसका दंड भुगतान करना पड़ सकता।

उपाय:-इस वर्ष आपको नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ सात बार संध्या समय में प्रतिदिन करना चाहिए। इसके साथ ही आप हर शनिवार संध्या समय में सरसों के तेल का दीपक जलाएं और पीपल के वृक्ष की परिक्रमा सात बार करें। एक बात का ध्यान यह रहे कि दीया व तेल शनिवार को खरीदना नहीं है। पहले से ही लेकर रखें. जब आप दीया जलाएं तब एक बात यह ध्यान रहे कि आप सूर्यास्त होने के बाद और अंधेरा होने से पहले दीपक जला लें।

 

Libra(तुला)

 

तुला राशि के स्वामी शुक्र है तथा यह चर राशि है। शुक्र के प्रभाव स्वरूप जातक में कोमलता का भाव देखा जा सकता है। इससे प्रभावित होने पर आप शांतिप्रिय, न्यायवादी तथा संतुलित व्यक्ति होते हैं। आपका व्यक्तित्व दूसरों का दिल जीतने वाला होता है। आपको दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ समय व्यतीत करना अच्छा लगता है। आप किसी व्यक्ति या समूह को प्रभावित करने में बहुत योग्य होते हैं। एक अच्छे वक्ता के गुण भीआप में मौजूद होते हैं आप किसी चीज का प्रस्तुतीकरण बहुत प्रभावशाली रूप से करना जानते हैं। महत्वाकांक्षी होने के साथ-साथ योजनायें बनाने व उन्हें संचालित करने की चाह भीरखते हैं धैयर्शीलता की कमी आपको अधिक प्रभावित कर सकती है। तुला राशि व्यापार, सहभागिता, कार्य में यात्राओं का सूचक है। तुला राशि होने पर व्यक्ति फैशन डिजाइनिंग, चित्रकला, फेब्रिक, टेक्सटाइल, प्रसाधन के सामान, जूट, प्लास्टिक इत्यादि से संबधित कार्य कर सकते हैं।

फाइनेंस :-तुला राशि वालों वित्तीय मामले में वर्ष की पहली तिमाही वित्तीय स्थिति के लिए काफी अनुकूल रह सकती है।  इस वर्ष धनेश आपके लाभभाव को प्रभावित कर रहा है जिस कारण आपके लाभमें वृद्धि के आसार नज़र आ रहे हैं। आपको अपने सहकमिर्यों से भीअच्छे लाभकी प्राप्ति हो सकती है। परिवार के सहयोग से भीलाभदायक स्थिति का फलादेश दिखाई देता है। आय के स्रोत बढेंगे और मुनाफा अच्छा रहेगा, परेशानियां भीदूर होंगी। लाभआपका बना रहेगा लेकिन इस लाभका आप मजा नहीं उठा पाएंगे, अधिक पाने की चाह आपकी इच्छाओं को तृप्त नहीं कर पाएगी। वर्ष की दूसरी तमाही में अचानक होने वाले खर्चे उभर कर सामने आ सकते हैं। आपको शेयर बाजार अथवा म्युच्वल फंड में निवेश करने में सतर्क रहना होगा। तीसरी तिमाही में खर्चों का बोझ कुछ कम हो सकता है।  नौकरी में प्रमोशन के योग बन सकते हैं जिससे आर्थिक लाभमें वृद्धि हो सकती है। साल के आखिरी तीन माह यानी अक्तूबर  से दिसंबर तक का समय आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सकती है और आप कुछ निवेश भीकर सकेंगे। साल के अंत तक आप कुछ प्रोपर्र्टी भीखरीदने का मन बना सकते हैं। लेकिन किसी बडे निवेश को करने से पहले बाजार की स्थिति को ध्यान में जरूर रखें। 

कॅरियर :-करियर और प्रोफेशन के नजरिये से वर्ष की प्रारंभिक तिमाही सामान्य फल ही देने वाली कही जा सकती है। आपको अपने व्यापार के लिए कुछ महत्वपूर्ण यात्राएं भीकरनी पड़ सकती हैं और जिस कारण आप अपने सहयोगियों की मदद लेने के लिए भीतत्पर रह सकते हैं। अप्रैल से जून तक आपको अपनी नौकरी में आगे बढ़ने के मौके मिल सकते हैं लेकिन प्रतिस्पर्धा जोरदार रहेगी। व्यापार से जुडे़Þ लोगों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। जुलाई से सितंबर तक का समय आपको अपनी परेशानियों से काफी हद तक निजात दिलाने वाला रह सकता है। नौकरी में सकून रहेगा और व्यापार में मुनाफा मिलेगा। भूतकाल में किया गया निवेश इस समय उपयोगी हो सकता है। अक्तूबर से दिसंबर 2015 तक का समय राहत और लाभका है। जो लोग प्रॉपर्टी के व्यवसाय में कार्यरत हैं उनके लिए समय अनुकूल दिखाई पड़ रहा है।

दाम्पत्य :-तुला राशि वालों प्रेम संबंध को लेकर साल की पहली तिमाही सामान्य ही रहने वाली दिखाई देती है।  प्रेम प्रसंगों को आप विवाह का रूप देने का प्रयास कर सकते हैं। दूसरी तिमाही के आरंभमें आप जोश व उत्साह से भरे रहेंगे आपको नए लोगों से मिलने का मौका मिलेगा। आप गुप्त प्रेम संबंधों से दूर ही रहें वर्ना आपकी छवि खराब हो सकती है और परेशानी सहनी पड़ सकती है। जुलाई से सितंबर तक का समय अविवाहित लोगों के विवाह संबंध स्थापित कराने के लिए अनुकूल है। साल के आखिरी तीन महीनों में जिन लोगों को इस समय शादी की उम्मीद है उनकी इच्छा पूरी हो सकती है।

 स्वास्थ्य :-हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से नये वर्ष की शुरुआत में स्वास्थ्य सामान्य बना रहेगा लेकिन तिमाही के शुरूआत बाद के समय में आपको गर्म-सर्द हो सकता है।  शरीर में गर्मी अधिक हो सकती है जिस कारण स्वास्थ्य कुछ खराब रह सकता है। साल की दूसरी तिमाही में आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। आपको पेट के संक्रमण हो सकते हैं या गैस्ट्रीक की समस्या से आप परेशान हो सकते हैं. इसलिए अपनी •ोजन संबंधी आदतों पर नियंत्रण रखें। जुलाई  से सितंबर की तिमाही में आपका स्वास्थ्य बेहतर  रहेगा। मौसम में गर्मी के कारण आपको सिर दर्द और थकावट हो सकती है। आपको चाहिए कि आप प्रात: काल में सूर्य नमस्कार करें और कुछ योग क्रियाओं का सहारा लें इससे हेल्थ को फायदा मिलेगा। जिन व्यक्तियों को डायबिटिज की समस्या है उन्हें तिमाही के दूसरे भाग से अपने खानपान पर ज्यादा ध्यान देना होगा और तनाव से मुक्त रहने की कोशिश करनी होगी। साल के आखिरी तीन माह सेहत की दृष्टि से मिले-जुले फल देने वाली रह सकती है। इस दौरान आप बीमार ज्यादा नहीं रहेगें लेकिन खुद को स्वस्थ भीमहसूस नहीं करेंगे।

 विद्यार्थियों:- तुला राशि वाले विद्यार्थियों के लिए साल के पहले तीन महीने कुछ मौज मस्ती के मूड वाला रह सकता है। इस समय पंचम भाव का स्वामी अपने से छठे स्थान में मौजूद है इस कारण आपको शैक्षिक प्रतियोगिता का अधिक सामना करना पड़ सकता है। दूसरी तिमाही में आप अपने क्षेत्र में टेक्नीकल शिक्षा का चयन कर सकते हैं। आपका मन अपनी क्षमता को प्रभावशाली रूप से दिखाने की चाहत वाला रह सकता है जिसमें आप अपने साहस और शक्ति का पूर्ण प्रदर्शन कर सकते हैं। जुलाई से सितंबर तक का समय पहले से बना भ्रम दूर होगा। प्रतियोगिताओं में स्वयं को स्थापित कर पाने के लिए आपने जो भीपरिश्रम किया है उसके परिणाम आपको अवश्य प्राप्त होंगे। वर्ष की अंतिम तिमाही में पंचमेश की स्थिति अनुकूल होने के कारण आपको धीरे-धीरे इसके प्रभाव की शुभता देखने को मिल सकती है। इस दौरान आपकी बुद्धि कुछ भ्रमित सी रह सकती है। लेकिन जल्द ही आप अपने लक्ष्यों के लिए अग्रसर होंगे

सामान्यतया :-परिवार के नजरिये से साल के आरंभमें पारिवारिक गतिविधियों के बढ़ने से आप उनसे दूर जाकर रहने की कोशिश कर सकते हैं। अप्रैल से जून के बीच परिवार में जमीन आदि के मामलों को लेकर कुछ विवाद हो सकता है, जिस कारण आपका घरेलू सुख अत्यधिक प्रभावित हो सकता है। आपके लिए वाद - विवाद को सुलझा लेना ही हितकर होगा आपको अत्यधिक मानसिक दबाव से होकर गुजरना पड़ सकता है। जुलाई से सितंबर के बीच आप अपने लिए संपत्ति खरीद सकते हैं और आपका रुका हुआ धन भीमिलने के आसार बनते हैं। साल के आखिर तीन महीने आपको माता जी से धन की प्राप्ति हो सकती है। इस तिमाही में मंगल की स्थिति अच्छी रहने से भूमि लाभहो सकता है और तिमाही के अंत में तो मंगल की उच्च स्थिति के कारण भूमि एवं निर्माण कार्यों से लाभवृद्धि बढ़ती ही रह सकती है. इस तिमाही में आप अपनी मेहनत में वृद्धि करेंगे और किसी बाहरी व्यक्ति से भीआर्थिक लाभपा सकते हैं।

उपाय:-आप प्रत्येक बृहस्पतिवार वर्ष भर केले के पेड़ की जड़ में जल अर्पित करें और जल में थोड़ा सा कच्चा दूध अवश्य मिला लें। शुद्ध घी का दीया जलाएँ और गुड़, चना व किशमिश का •ोग लगाएँ। केले के पेड़ के चारों ओर मौली का धागा भीलपेटते हुए परिक्रमा भीकरें। बृहस्पति चालीसा का पाठ अवश्य करें।

 

Scorpio( वृश्चिक)

 

वृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह मंगल होता है इस कारण आपके भीतर मंगल की प्रवृति पाई जाती है, बलशाली व साहसी व्यक्ति होते हैं. इस राशि का प्रतीक चिन्ह एक बिच्छू है और इसका तत्व जल है। बिच्छू का प्रतीक चिन्ह होने से आप अति शीघ्रता से प्रतिक्रिया देने वाले व्यक्ति होगें जबकि बाहरी तौर पर आप स्वयं को बहुत ही शांत तथा संयमी दिखाने वाले व्यक्ति होते हैं। आपकी एक खासियत यह है कि एक बार जिस बात को करने का जुनून आपके अंदर सवार हो जाता है तब आप उसे पूरा कर के ही दम लेते हैं। आप पुलिस विभाग में कार्यरत हो सकते हैं, रक्षा विभाग में भीआप नौकरी कर सकते हैं, रेलवे विभाग, दूर संचार विभाग आदि को भीआप आजीविका का क्षेत्र चुन सकते हैं। आप बीमा एजेंट हो सकते हैं। आपको चिकित्सा आदि जैसे क्षेत्रों में भीसफलता मिल सकती है और मशीनरी से जुड़े काम आपके लिए उपयुक्त कहे जा सकते हैं। आप ललित कला व नृत्य में भीकुशल होते हैं, आप अच्छे वक्ता व कुशल लेखक भीहोते हैं।

फाइनेंस :- वृश्चिक राशि  वालों के लिए वर्ष की पहली तिमाही वित्तीय दृष्टिकोण से मिश्रित फल प्रदान करने वाली होगी। इस समय आपका भाग्य भीआपका साथ देने में पीछे हट सकता है और धन संबंधी मामलों को लेकर आपके साथ धोखाधड़ी होने की संभावना बनती है। दूसरी तिमाही का आरंभआर्थिक तंगी के रूप में हो सकता है। आपका जीवनसाथी भीइस समय धन का अपव्यय कर सकता है। तीसरी तिमाही के आरंभसे आपको आर्थिक रूप से कुछ राहत मिलनी आरंभहो सकती है। धन संबंधी बातों को लेकर जो भीपरेशानी अथवा काम रुके हुए थे उन सभीका धीरे-धीरे समाधान होना आरंभहो जाएगा। वर्ष की अंतिम तिमाही आर्थिक रूप से पक्ष में रहने की ही संभावना बनती है। इस तिमाही में धन के अभाव के कारण आपका कोई काम रुकेगा नहीं, आप कई रूपों में धन की प्राप्ति कर सकते हैं। दिसम्बर माह आपके लिए अत्यधिक अनुकूल रहने की संभावना है।

कॅरियर :वर्ष की पहली तिमाही का पहला भाग करियर के लिए अनुकूल नहीं कहा जा सकता। अष्टमेश की स्थिति दशम भाव में होना कैरियर में किसी ना किसी बात को लेकर व्यवधान उत्पन्न कर सकती है। षष्ठेश का दशम भाव से संबंध भीबन रहा है जो आपको कैरियर में प्रतिस्पर्धाओं से होकर गुजरने का संकेत कर रहा है। बिजनेस के नजरिये से तिमाही का आरंभआपके लिए अनुकूल रहने की संभावना बनती है. लेकिन तिमाही का दूसरा भाग व तीसरा भाग आपके लिए अपेक्षाकृत मिश्रित फल प्रदान करने वाला रहता है। दूसरी तिमाही में आप अपने कार्यक्षेत्र पर प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना अधिक कर सकते हैं और इस कारण आपको मिले-जुले फलों की प्राप्ति अधिक होने की संभावना बनती है। तीसरी तिमाही में आपकी पदोन्नति होने की संभावना बनती है और आपकी यह पदोन्नति अनायास भीहो सकती है। प्रॉपर्टी के काम से संबंधित लोगों के लिए तिमाही मिश्रित फल प्रदान करने वाली रह सकती है। साल के आखिरी तीन महीनों में आप अपने कार्यक्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। अधूरे पड़े कामों को पूरा करने का अवसर इस समय मिलेगा लेकिन बिजनेस में परेशानी बनी रहेगी। दिसम्बर माह आपके लिए लाभदायक रहेगा।

दाम्पत्य सुख:- प्रेम संबंध की दृष्टि से साल की पहली तिमाही पहले से बने हुए प्रेम संबंधों में आपको अभीमनमुटाव का अनुभव हो सकता है। वर्ष की दूसरी तिमाही का आरंभआपके प्रेम संबंधों के लिए बिलकुल उपयुक्त नहीं माना जाएगा। आपके अनुकूल परिस्थितियां जुलाई से सितंबर के बीच रहेंगी। तिमाही का अंतिम भाग आपके लिए काफी अनुकूल सिद्ध हो सकता है और आप प्रेम संबंधों को विवाह में तबदील करने की भीसोच सकते हैं और इसके लिए माता-पिता से प्रेम संबंधों का जिक्र भीकर सकते हैं. लेकिन पहली बार में वह शायद ही माने, आप दोनो में से किसी के भीपरिवार वाले आवाज उठा सकते हैं। साल के आखिरी तीन महीनों में प्रेम संबंधों को लेकर घर में कलह क्लेश होने की संभावना बनती है।

स्वाथ्य :-हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल के पहले तीन माह  साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। आप यदि हृदय रोग के मरीज हैं तब आपको दूसरी तिमाही के आरंभ से ही समय रहते अपना चेक-अप करा लेना चाहिए।   यदि आप ह्रदय रोग के मरीज नहीं भी है तब भीआपको अपना ध्यान इस समय में रखना होगा और अधिक आवेशी या आवेगी नहीं बनना चाहिए। यदि आप पिछले कुछ समय से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रहे हैं तब आपको जुलाई से सुधार नजर आएगा और आप राहत की सांस ले पाएंगे।

 विद्यार्थी :- तकनीकी क्षेत्र से संबंधित विद्यार्थियों के लिए नये साल की पहली तिमाही का आरंभअनुकूल रह सकता है। प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए समय आपके पक्ष में रहेगा। दूसरी तिमाही में आप किसी ऐसे व्यक्ति के चंगुल में फंस सकते हैं जो आपसे धन लेकर दाखिला दिलाने का लालच दे सकता है। जुलाई से सितंबर तक का समय आपके लिए अनुकूल फल प्रदान करने वाली रह सकती है। आप खेल-कूद प्रतिस्पर्धाओं में भीअच्छा प्रदर्शन कर के दिखाएंगे। साल के आखिरी तीन महीने के समय को आपके लिए अधिक अनुकूल नहीं कहा जा सकता है। लेकिन अंतिम भाग आपको राहत देने वाला होगा।

समान्यतया :-परिवार की दृष्टि से तिमाही के आरंभसमय से ही आप अपनी माता के प्रति विशेष अनुराग रख सकते हैं। दूसरी तिमाही के आरंभमें आपके अपने साथी के साथ संबंध और अधिक बिगड़ने आरंभहो सकते हैं। तीसरी तिमाही के आरंभमें आप संतान के स्वास्थ्य को लेकर चिन्तित रह सकते हैं। इस तिमाही में किसी भीप्रकार से विवाह की कोई बात पक्की ना करें। यदि आप काफी समय से संतान प्राप्ति का विचार कर रहे हैं तब यह तिमाही इसके लिए अनुकूल बनी रह सकती है। साल की आखिरी तिमाही के अक्टूबर माह में आपका दांपत्य जीवन सबसे ज्यादा खराब नजर आ सकता है। लेकिन अंतिम भाग में परिस्थितियों में कुछ सुधार होने की संभावना बनती है. आपकी यह पूरी तिमाही दांपत्य जीवन की परेशानियों को लेकर बीत सकती है। दिसम्बर माह अपेक्षाकृत कुछ अनुकूल रह सकता है।

उपाय:- आपको प्रतिदिन संकटमोचन के साथ नारायण कवच का पाठ सुबह या शाम करना चाहिए। आप रोज सुबह ताजे आटे से बनी एक रोटी में थोड़ा सा मीठा मिलाकर गाय को खिलाएँ। शनि की ढैय्या के प्रभाव को कम करने के लिए आप शनिवार के दिन 108 बार ‘ऊँ शं शनैश्चराय नम:’ का जाप करें।


Sagittarius(धनु राशि)


आपकी धनु राशि है और धनु राशि होने से आपके भीतर ऊर्जा व पराक्रम की कमी नहीं होती है। आपको ऊर्जा व जोश से भरे हुए कामों में इनका उपयोग करना चाहिए। आपको खेल-कूद आदि में भाग लेकर अपनी ऊर्जा का सदुपयोग करना चाहिए अर्थात आप खेलों को भीअपने कैरियर के रूप में चुन सकते हैं। आप लेखापाल अथवा वकालत को भीअपना करियर बना सकते हैं। धनु राशि का संबंध बृहस्पति से है और बृहस्पति ज्ञान के कारक ग्रह हैं इसलिए आप अध्यापन को भीअपना कैरियर बना सकते हैं। आप धर्म प्रचारक के रूप में भीकाम कर सकते हैं,   आप धार्मिक संस्थाओं से जुड़कर भीअपना काम कर सकते हैं। आप वित्तीय प्रबंधक अथवा सलाहकार के रूप में भीकाम कर सकते हैं।

फाइनेंस :-वित्तीय नजरिये से वर्ष 2015 की पहली तिमाही में आपके लिए अनुकूलता बनी रहने की संभावना कम ही है। चारों ओर से आपके खर्चे बढ़ने की बात नजर आती है। इस समय आपका संचित धन भीकम हो सकता है और किसी आवश्यक काम की पूर्ति के लिए किसी से आर्थिक सहायता भीलेनी पड़ सकती है। वर्ष की दूसरी तिमाही आपके लिए मिश्रित फल प्रदान करने वाली रह सकती है। इस समय आपकी आय व व्यय दोनो ही समान रूप से बने रह सकते हैं लेकिन निवेश के लिए यह तिमाही भीअधिक अनुकूल नहीं कही जा सकती है। जुलाई से सितंबर के बीच आपकी आर्थिक स्थिति में कुछ सुधार होना आरंभहो जाएगा और आप धन संबंधी मामलों में राहत का अनुभव करेंगे। वर्ष की अंतिम तिमाही वित्तीय दृष्टिकोण से आपके पक्ष में ही रहने की संभावना बनती है। इस समय जो लोग विदेशों से अपनी आय का संबंध स्थापित करने की सोच रहे हैं वह कर सकते हैं और उन्हें आरंभमें कुछ परेशानियों के बाद अच्छे परिणाम ही प्राप्त होगें।

कॅरियर :- करियर और प्रोफेशन के नजरिये से पैतृक काम करने वाले व्यक्तियों के लिए नये साल की पहली तिमाही का आरंभसमय अनुकूल कहा जा सकता है। साझेदारी में काम करने वालों के लिए भीयह तिमाही अनुकूल फल प्रदान करने वाली रह सकती है। नौकरीपेशा लोगो के लिए समय का आरंभअच्छा ही रहेगा लेकिन जिनके काम का संबंध मल्टीनेशनल कम्पनी से जुड़ा है उन्हें कुछ असहज परिस्थितियों का सामना करते रहना पड़ सकता है लेकिन आप अपनी चालाकी व बुद्धिमत्ता का उपयोग करते हुए उच्चाधिकारियों को अपनी ओर करने में सफल रह सकते हैं। तिमाही के दूसरे अथवा तीसरे भाग में आपकी पदोन्नति हो सकती है। साल की दूसरी तिमाही को मिश्रित फल प्रदान करने वाली कहा जा सकता है और आरंभसमय में आपको सरकार अथवा सरकारी अधिकारियों के कोप का भागी बनना पड़ सकता है। तिमाही के दूसरे भाग में स्वत: ही परिस्थितियाँ आपके अनुकूल हो जाएंगी और आपके निज प्रताप में वृद्धि होगी और कार्यक्षेत्र पर सुखद अनुभव होगा, काम करने में आनंद आएगा। जुलाई से सितंबर तक का समय नौकरीपेशा लोगों के लिए कष्टकारी रह सकते हैं। बिजनेस के लिए तिमाही का आरंभसमय अनुकूल ना रहकर बाद का समय पक्ष में रहेगा। साल के आखिरी तीन महीनें आपके कारोबार के अनुकूल रहेंगे। कामकाजी महिलाओं को भीइस समय अपने सहयोगियों से किसी तरह का कोई पंगा नहीं लेना चाहिए अन्यथा आपके अधिकारी आपकी बात सुनने को तैयार ही नहीं होगें और आपके ही ऊपर अपमान की अंगुली उठाई जा सकती है।

 स्वास्थ्य :-हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से वर्ष की पहली तिमाही के आरंभसमय में आपको शारीरिक कष्टों की बजाय मानसिक कष्टों का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप इनसे बचना चाहते हैं तो आपको आध्यात्म का सहारा लेना चाहिए और कुछ समय अपने लिए निकाल कर व्यायाम जरुर करना चाहिए। साल की दूसरी तिमाही में आपको त्वचा विकार   होने की संभावना बनती है। जुलाई से सितम्बर के बीच आप अपनी छोटी-छोटी तकलीफों को अनदेखा ना करें क्योकि यह आपके लिए नासूर साबित हो सकती हैं। साल के आखिरी तीन महीनों में तो खराब स्वास्थ्य के कारण आपको अस्पताल के चक्कर भीकाटने पड़ सकते हैं और शीघ्र स्वास्थ्य लाभके लिए आप मेडिटेशन का सहारा भीइस समय ले सकते हैं।

प्रेम संबंध :- धनु राशि राशि वालों प्रेम संबंधों के लिए वर्ष की पहली आपके तिमाही अनुकूल नहीं कही जा सकती है। पंचम •ााव में मंगल का गोचर आप दोनो के मध्य दरार उत्पन्न कर सकता है। परेशान होने की बजाय आप अपने प्रेमी और खुद को कुछ समय दें जिससे आपको समझ आ जाएगा कि वास्तविक स्थिति क्या है अर्थात आप दोनो एक-दूसरे को चाहते भी है या नहीं ! या फिर महज ये एक आकर्षण है। आपके परिवार वाले इस समय आपके प्रेम संबंधों में टांग अड़ाने की पूरी कोशिश करेगें अर्थात वह टूटने के पक्ष में ही रहेगे। अपने अकेलेपन को दूर करने और •ाावनात्मक कमी को •ारने के लिए आप अनैतिक संबंधो का आरं•ा कर सकते हैं क्योकि परेशानी की हालत में आपको कुछ समझ नही आएगा लेकिन यह आपके लिए बदनामी का कारण बन सकता है। इसलिए आप बिना सोचे विचारे •ाावनाओं में बहकर कुछ ना करें।

विद्याथिर्यों:- के लिए यह वर्ष का प्रारम्•ा कुछ प्रतिकूल रह सकता है। मन मस्तिष्क •ाटका हुआ सा रहेगा। पढ़ाई की ओर से आप पूरी तरह से विमुख रह सकते हैं और मित्रों के साथ बुरी संगत में पड़ सकते हैं। आपके लिए उचित यही होगा कि आप समझदार बने और शिक्षा की ओर ध्यान दें। घूमना-फिरना भी जरुरी है लेकिन सभी बाते एक सीमा में रहकर ही अच्छी लगती हैं। किसी के समझाने का भी आपके ऊपर कोई प्र•ााव नहीं पड़ेगा क्योकि आपको समझ ही नहीं आएगा कि कोई क्या कह रहा है, ऐसा आपके पंचमेश बुध के वक्री होने के कारण हो सकता है और लग्नेश इस समय नीच राशि में रहेगे। आपको सरस्वती मंत्र का जाप प्रतिदिन करना चाहिए और 11 बार गायत्री मंत्र पढ़ने का नियम भी बनाना चाहिए। इससे पढ़ाई में मन लगा रहेगा और आप जी नही चुराएंगे।

उपाय :-आपको पूरे वर्ष ऊँ गं गणपतये नम: का जाप 108 बार प्रतिदिन सुबह के समय करना चाहिए। इसके साथ ही बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए। आर्थिक स्थिति में सुधार बना रहे इसके लिए आप गणेश जी की पूजा प्रतिदिन सुबह के समय अवश्य करें।

 

Capricorn(मकर)

 

आपकी मकर राशि है और मकर राशि होने से आपके भीतर ऊर्जा व पराक्रम की कमी नहीं होती है। आपको ऊर्जा व जोश से भरे हुए कामों में इनका उपयोग करना चाहिए। आपको खेल-कूद आदि में भाग लेकर अपनी ऊर्जा का सदुपयोग करना चाहिए अर्थात आप खेलों को भीअपने कैरियर के रूप में चुन सकते हैं। आप लेखापाल अथवा वकालत को भी अपना करियर बना सकते हैं। मकर राशि का संबंध बृहस्पति से है और बृहस्पति ज्ञान के कारक ग्रह हैं इसलिए आप अध्यापन को भी अपना कैरियर बना सकते हैं। आप धर्म प्रचारक के रूप में भी काम कर सकते हैं,   आप धार्मिक संस्थाओं से जुड़कर भी अपना काम कर सकते हैं। आप वित्तीय प्रबंधक अथवा सलाहकार के रूप में भी काम कर सकते हैं।

फाइनेन्स :- वित्तीय स्थिति के नजरिये से साल आरंभ खर्चों की अधिकता लाने वाला रह सकता है। न चाहते हुए भी खर्चे करने पड़ सकते हैं। अप्रैल से जून तक का समय संतोषजनक रहेगा लेकिन जुलाई से सितंबर की तिमाही में आपकी स्थिति भ्रमित रह सकती है। आपको पैतृक संपत्ति से भीकुछ लाभमिलेगा और पिता का सहयोग होने से आप अपनी आर्थिक स्थिति को उन्नत करने में सक्षम रहेंगे। साल के अंतिम तीन महीने सामान्य रहने की उम्मीद है। आपने अभीतक जो भीप्रयास किए होंगे उसमें अब जाकर आपको कुछ अच्छे संकेत मिल सकते हैं। लेकिन अभीग्रहों की स्थिति में शुक्र नीच का है और बुध उच्च का होकर वक्री स्थिति में है, इस कारण से आपको इस ओर विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि आप जल्दबाजी में आकर कोई निर्णय न लें कुछ समय के लिए स्थिति के अनुकूल होने का इंतजार भीकरें। आपको बाजार के उतार-चढ़ाव भीप्रभावित कर सकते हैं। नवम्बर से आपको अच्छे लाभमिलने की संभावना बनती है।

कॅरियर :- करियर और प्रोफेशन के नजरिये से वर्ष की पहली तिमाही की शुरूआत किसी काम में नई प्रगत्ति या तेजी से हो सकती है। व्यवसाय में आपको बडे़ बिजनेस व डेवल्पर्स से मिलेने के मौके मिल सकते हैं जो आपके काम में आपकी मदद भीकर सकेंगे। लेकिन इसी के साथ आपको जोखिम लेने से बचना चाहिए, नौकरी में परेशानी भीझेलनी पड़ सकती है। साल की दूसरी तिमाही में ग्रहों के प्रभाव के कारण छोटे-छोटे कामों के लिये भीआपको ज्यादा मेहनत करनी पड़ सकती है।  व्यापार से संबंधित प्रोजेकट रुक सकते हैं या उनमें कोई अडंगा डाल सकता है। लेकिन जल्द ही परेशानियां दूर हो जाएंगी आपको मुनाफा भीमिलने की उम्मीद बंधती है। साल की तीसरी तिमाही में आपको लोन लेने की आवश्यकता पड़ सकती है।  आप नौकरी में परेशानी का अनुभव कर सकते हैं इसलिए आप अपने लिए किसी नई नौकरी को ढूंढने के बारे में सोच सकते हैं। साल के आखिरी तीन महीने के दौरान आप अपने काम के सिलसिले में विदेश यात्रा भीकर सकते हैं।  इस माह में अधिक जोश दिखाना आपके लिये व्यवसायिक क्षेत्र में विवाद की स्थिति उत्पन्न कर सकता है। साल के अंत तक काम में उन्नति मिल सकती है.

दाम्पत्य :- प्रेम संबंध के नजरिये से साल का आरंभनए संबंधों को लेकर आ सकता है। वैवाहिक संबंधों में बंधने का समय है इसलिए तैयार हो जाएं और अपनी पसंद को रिश्तों में बदलते हुए देखिए। वर्ष की अंतिम तिमाही का पहला भाग आपको मानसिक तनाव देने वाला रह सकता है। स्वयं पर नियंत्रण रखें क्योंकि जल्द ही स्थिति में सुधार की संभावना बनती दिखाई देती है।

स्वास्थ्य :- हेल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल के आरम्भिक तीन माह मिलेजुले फल मिलेंगे। आलस्य और थकावट बनी रह सकती है। नेत्र संबंधी कुछ परेशानी उत्पन्न हो सकती है। आपका रक्तचाप भीबढ़ सकता है अत: अपनी सेहत का ख्याल रखें और स्वयं को शांत रखते हुए काम करें। दूसरी तिमाही में आपको पेट में जलन या गैस्ट्रिक संबंधी तकलीफ परेशान कर सकती हैं. आपके काम में आपका स्ट्रैस बढ़ सकता है जिस कारण थकावट हो सकती है साथ ही जोडों में दर्द की शिकायत परेशान कर सकती है. तीसरी तिमाही में मौसम आपके सेहत को प्रभावित कर सकता है। साल के आखिरी तीन महीनों में कई सारे ग्रहों का प्रभाव आपके ऊपर देखा जा सकता है। इसलिए आपको स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहना जरूरी होगा। गर्भवती महिलाओं को इस अवधि के दौरान अपना विशेष ख्याल रखना चाहिए।

एजुकेशन:- के लिए साल की पहली तिमाही अनुकूल रहने वाली है। इस समय आप टेक्निकल शिक्षा पाने का प्रयास कर सकते हैं। अप्रैल, मई और जून में कुछ दिक्ततें हो सकती है। अक्तूबर से दिसंबर तक जो शिक्षार्थी घर से दूर जाकर शिक्षा ग्रहण करने की चाह रखते हैं उन्हें अपने प्रयासों में तेजी करनी चाहिए क्योंकि आने वाले समय के दौरान आप इस ओर कदम बढ़ा सकते हैं। विदेश में शिक्षा की योजना अब अपना असली रूप ले सकती है। यदि आपने किसी प्रतियोगिता   में भाग लिया है तो आपको अच्छे फल मिलने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता है। मकर राशि वालों   परिवारिक नजरिये से साल के पहले तीन महीने मिले-जुले फल देने वाली रह सकते हैं। परिवार में किसी बात को लेकर चिंता बनी रह सकती है लेकिन मिल जुलकर आप इन दिक्कतों से पार पा लेंगे। दूसरी तिमाही में कुछ समय के लिए आपके छोटे-भाई बहनों के साथ आपके कुछ वैचारिक मत•ोद हो सकते हैं लेकिन यदि आप सकारात्मक भाव बनाने की कोशिश करेंगे तो स्थिति को नियंत्रण में रख सकते हैं।  तीसरी तिमाही का यह समय सामान्य होगा। आप पर कुछ ऐसे इल्जाम लगाए जा सकते हैं जिस कारण आपकी प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचे। साल के आखिरी तीन महीने परिवार में शुभकार्य हो सकते है। इस समय आप अपने परिवार के साथ कहीं लम्बी दूरी की यात्राओं पर भीजा सकते हैं।

उपाय :-आपकी कुंडली में शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव अपने पीक (चरम) पर रहेगा, इसलिए शनिदेव को शांत रखने का प्रयास करें और प्रतिदिन संध्या समय में 11 बार शनि स्तोत्र का पाठ करें लेकिन यह पाठ रविवार के दिन ना करें। इसके साथ ही आपको प्रत्येक बुधवार के दिन विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ अवश्य करना चाहिए।


Aquarius(कुंभ)


कुंभ राशि वालों आपके राशि का स्वामी ग्रह शनि है और प्रतीक चिन्ह कुंभ अर्थात घडा है। आपकी सबसे बडी़ विशेषता है कि आप सकारात्मक सोच रखते हैं। आप लोहे अथवा चमड़े से संबंधित कोई भी काम कर सकते हैं। आप सलाहकारिता के क्षेत्र में भी जा सकते हैं। आप अभियांत्रिकी, चिकित्सक, ज्योतिष से संबंधित काम को भी अपनी आजीविका का क्षेत्र बना सकते हैं। आपके लिए बिना सिले कपड़ो का काम भी अनुकूल हो सकता है। इंजीनियरिंग, शिक्षण तथा सलाहकारिता के काम भी आप कर सकते हैं। आप प्रशासनिक अधिकारी हो सकते हैं, प्रकाशक, विश्लेषक तथा डाक-तार विभाग में भी आप भाग्य आजमा सकते हैं. मनोगत विज्ञान, वैज्ञानिक, संगीत व कला में भी अपना कैरियर बना सकते हैं आप कमीशन एजेंट का काम भी कर सकते हैं और आप दूरसंचार आदि को भी कैरियर के रूप में चुन सकते हैं।

फाइनेंस :- आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष आपके लिए उतार-चढ़ाव वाली सिद्ध होगा। अपने प्रयासों से आप कुछ धन जुटाने में सफल हो सकते हैं। शेयर मार्केट से भी धन लाभप्राप्त कर सकते हैं लेकिन ज्यादा जोखिम उठाना आपके लिए सही नहीं होगा। मार्च में कोई ऐसा धन जिसे मिलने की आशा आप खो चुके हो, वह मिल सकता है। आपका कोई भी काम धन की कमी के कारण अटकने वाला नहीं होगा। इस समय जो लोग विदेश में धन का निवेश करना चाहते हैं वह कर सकते हैं. शत्रु आपके लिए लाभदायक सिद्ध हो सकते हैं। जनवरी , मार्च और अप्रैल यात्रा की दृष्टि से अनुकूल है फरवरी और अक्टूबर में यात्रा न करें। मई जून में आप परिवार के साथ किसी हिल स्टेशन पर घूमने जाने का कार्यक्रम भी बना सकते हैं। आपका जीवनसाथी भी आपके धन में वृद्धि करने वाला रहेगा. आपके वेतन में भीइजाफा की संभावना है। आपका धन फ्लैट खरीदने में निवेश हो सकता है लेकिन आप पहले देख भाल लें कि बिल्डर कितने वर्ष का लक्ष्य आपको दे रहा है, उसके बाद ही निवेश करें। यदि आपने पैसों का निवेश बिना सोचे विचारे यदि फ्लैट अथवा जमीन आदि में कर दिया है तब आपको उसके लिए पछताना पड़ सकता है। वर्ष के अंत समय में कुछ राहत मिलने की संभावना बनती है। 

कॅरियर :- करियर और प्रोफेशन के नजरिये से साल की पहली तिमाही में परेशानियाँ पैदा हो सकती हैं। काम को लेकर आपके ऊपर अंगुली भी उठाई जा सकती। बिजनेस के नजरिये से फंसा हुआ पेमेन्ट मार्च में मिल सकता है। अप्रैल से जून तक का समय आपके लिए अनुकूल है। जून में पदोन्नति के साथ आपको पुरस्कृत भीकिया जा सकता है। बिजनेस के संबंध में यह तिमाही अनुकूल ही कही जाएगी. थोड़े बहुत उतार-चढ़ाव के साथ आप अपने काम में वृद्धि व उन्नति करने में कामयाब रहेंगे। जुलाई से सितंबर के बीच आप अपना कार्यक्षेत्र बदलना चाहेंगे क्योकि आपका मन अब वतर्मान जगह पर टिकने वाला नहीं रहेगा। वैसे भीबुध के प्रभाव से आपको बदलाव अधिक पसंद है। तिमाही के अंत समय तक आपकी नई नौकरी मिलने की संभावना बनती है। जिनकी नौकरी परिवर्तनीय है उनका स्थानांतरण ऐसे स्थान पर हो सकता है जहाँ वह परेशान रहेंगे। बिजनेस के लिए समय काफी अनुकूल रहेगा। साल के अंतिम तीन महीने कार्यक्षेत्र पर उथल-पुथल मचाने वाली हो सकती है। यदि आपकी कुंडली में दशा/अन्तदर्शा भीअनुकूल चली हुई है। जिन लोगों के काम का संबंध तकनीकी क्षेत्र अथवा चिकित्सा जगत से है उनके लिए समय ज्यादा परेशानी वाला हो सकता है। परेशानी किसी समस्या का हल नही है बेहतर है कि आप ईश्वर का ध्यान करते हुए अनुकूल समय का इंतजार करें।

 दाम्पत्य :- प्रेम संबंधों के लिए साल की पहली तिमाही मिले-जुले फल देने वाली रह सकती है। आपको अपने प्रेमी का साथ मिलेगा और आप उसके साथ सकुन से भरे कुछ पलों को बिता सकेंगे। दूसरी तिमाही प्रेम संबंधों के लिए अच्छी रहने वाली है। जुलाई से सितंबर के बीच आपके प्रेम संबंधों के विवाह में बदलने की बात हो सकती है। साल के आखिरी तीन महीने में आपकी मुलाकात किसी अनजान व्यक्ति से हो सकती है और आप उसकी ओर आकर्षण का अनुभव भी कर सकते हैं। तिमाही के अंतिम समय में आपको प्रेमी से सुखद एहसास की प्राप्ति होगी और आपके संबंधों में फिर से स्थिरता आ सकेगी। यदि आप विवाहित हैं तब आपको विवाहेतर संबंधो से खुद को दूर रखना चाहिए क्योकि इस समय बदनामी भीहो   सकती है।

शिक्षा :- के लिए यह साल मिश्रित फल प्रदान करने वाला हो सकता है। आप अपने अन्य साथियों के साथ ऐसी गतिविधियों में लिप्त रह सकते हैं जिनके बारे में आपके अभिभावकों को भी पता   नही होगा। अपने भविष्य को अंधकारमय बनाने की बजाय थोड़ा सा बुद्धिमत्ता से काम लें और इस समय भीआप संभल जाते हैं तब भी देर नही मानी जाएगी। जुलाई से सितंबर तक का समय आपके लिए अनुकूल रहने की संभावना बनती है। खुद ब खुद आपको अपनी पढ़ाई में रुचि आरंभहो जाएगी और आप पहले से अच्छा कर पाएंगे। अक्तूबर से दिसंबर तक का आरंभऔर मध्य भाग आपके लिए फिर से परेशानियों वाला हो सकता है क्योंकि इस समय अधिकतर ग्रहों की ऊर्जा आपके चतुर्थ और पंचम भाव पर सक्रिय रहेगी। इस समय आपको अपने अध्यापको से किसी तरह की कोई बहस नहीं करनी चाहिए अन्यथा आपके लिए बहुत ही मुश्किले पैदा हो सकती है और आपके भविष्य पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

सामान्य :- परिवारिक दृष्टि से इस साल की पहली तिमाही में खटपट चली रह सकती है। आपकी माताजी का स्वास्थ्य तिमाही के आरंभमें बिगड़ सकता है। संतान की ओर से कुछ चिन्ताएं बनी रह सकती हैं। यदि जमीन जायदाद को लेकर कोर्ट केस आदि चले हुए हैं तब उसके लिए समय अनुकूल नही कहा जा सकता है। जुलाई से सितम्बर के मध्य किसी शुभसमाचार की संभावना बनती है। अक्तूबर से दिसंबर तक का समय पारिवारिक दृष्टि से अनुकूल नहीं है।परिवार में सुख तथा समृद्धि बनी रहे इसके लिए प्रतिदिन सुबह के समय लक्ष्मी चालीसा का पाठ नियमित रूप से करें। हर मंगलवार हनुमान जी के मंदिर में मीठी बूंदी का •ोग लगाना चाहिए और मंदिर के बाहर खड़े बच्चो में उसे बांट देना चाहिए। हनुमान जी के सामने श्रद्धा से शीश नवाएं।

उपाय :- इस वर्ष आप प्रत्येक मंगलवार के दिन सुंदरकाण्ड का पाठ अवश्य करें और शनिवार के दिन बंदरों को गुड़ व चना खिलाएँ। आप प्रतिदिन सुबह अथवा शाम का कोई एक समय सुनिश्चित करने के बाद 11 बार गणेश संकट स्तोत्र का पाठ करें। गणेश मंत्र का जाप प्रतिदिन 108 बार सुबह के समय शुद्ध घी का दीया जलाकर करना है. मंत्र है - ऊँ गं गणपतये नम:|


Piese(मीन)

मीन राशि का स्वामी ग्रह गुरु है। गुरु बुद्धि, विवेक तथा ज्ञान के कारक ग्रह हैं। इसलिए आप एक अच्छे सलाहकार अथवा अध्यापक भीहो सकते हैं। आप लेखन व संपादन कार्य में भीकुशल होते हैं, इसके अलावा आप धर्म प्रचारक के रूप में भीकार्य कर सकते हैं। आप फिल्म, मनोरंजन अथवा जासूसी के क्षेत्र में भीकाम कर सकते हैं। आप चिकित्सक के रूप में भीअपना व्यवसाय चुन सकते हैं।

फाइनेंस :- आर्थिक दृष्टिकोण से वर्ष के प्रारम्भ के तीन माह मध्यम रहेंगे। इस समय परिवार को लेकर कुछ खर्चे बने रह सकते हैं। आप धन का निवेश इस समय जमीन आदि मामलों में भी कर सकते हैं। यदि आपका धन अथवा उधार दिया रुपया कहीं अटका हुआ है तब उसके मिलने की सम्भावना है। आप यदि प्रॉपर्टी का काम करते हैं तब तिमाही के अंत समय में आपको जमीन आदि से लाभ मिलने की सम्भावना बनती है। अप्रैल, मई औ जून आपके लिए लाभदायक बना रहेगा। इस समय आप जो भी काम करेंगे उसमे लाभ ही पाएंगे। जुलाई, अगस्त औ सितंबर भी आर्थिक दृष्टि से अनुकूल रहेंगे। आय के स्तोत्र बढ़ने की सम्भावना बनती है। वर्ष के अंतिम तीन महीने आपके लिए व्यय से भरे हो सकते हैं। खर्चे अनायास बढ़ सकते हैं। आप जुआ, सट्टा अथवा मादक द्रव्यों पर इस समय अधिक धन व्यय कर सकते हैं अथवा बुरी संगति में पड़कर आप धन को उड़ाने में लगे रह सकते हैं। यात्रा की दृष्टि से मार्च अनुकूल रहेगा और आप इस समय परिवार के साथ तीर्थ यात्रा पर भी जा सकते हैं। अक्टूबर, नवम्बर और दिसम्बर में बिना मन के भी आपको यात्रा करनी पड़ सकती है। जिन लोगो को विदेश यात्रा पर जाना है उनके लिए अक्टूबर का पहला और अंतिम •ााग ज्यादा अनुकूल रहेगा। मध्य •ााग को आप यदि आवश्यक ना हो तो नजर अंदाज करने का प्रयास करें।

कॅरियर :- करियर के नजरिए से वर्ष का आरं•ा समय परेशानी वाला सिद्ध हो सकता है। आप नौकरीपेशा व्यक्ति हैं तो आपका बॉस भी आपसे इस समय नाखुश रह सकता है। आपके लिए उचित यही होगा कि आप हड़बड़ी ना मचाएं और धैर्य के साथ अपनी कमियों और जरूरतों को समझने का प्रयास करें कि कहां, क्या गड़बड़ है और आप उसे कैसे ठीक कर सकते हैं। बिजनेस से ला•ा कम तो व्यय अधिक बने रहने की सं•ाावना बन रही है। अप्रैल में आप अपने काम को ज्यादा बढ़ाने की सोच सकते हैं या फिर आप काम में कुछ परिवर्तन करने का भी मन में विचार बना सकते हैं। अपने काम को लेकर आपका लचीला होना बहुत आवश्यक है। मई आपके लिए कुछ अनुकूल है लेकिन परेशानियाँ तथा बाधाएँ भी साथ में ही बनी रहेंगी। जुलाई से समय आपके अनुकूल रहेगा। आप जो भी काम आरं•ा करेंगे उसे समय पर पूरा कर पाएंगे। इस तिमाही में आपका स्थानांतरण भी होने की सं•ाावना बनती है। बिजनेस के नजरिये से जुलाई, अगस्त और सितम्बर माह मिश्रित फल देेंगे। अक्टूबर आपके लिए परेशानियों से •ारा हो सकता है। नौकरी छोड़ने की जगह कुछ दिनों का अवकाश ले लें। बिजनेस के लिए भी यह समय अनुकूल नही कहा जा सकता है लेकिन नवम्बर से स्थितियों में सुधार होगा।

 दाम्पत्य सुख :- प्रेम संबंधों के लिए वर्ष की पहली तिमाही को अनुकूल नहीं कहा जा सकता है। दूसरी तिमाही में भीबनाये गये प्रेम संबंध आपके लिए परेशानी पैदा कर सकते हैं। मई में समय आपके मनोनुकूल रहेगा और इस समय आप अपने प्रेम का इजहार कर सकते हैं। तीसरी तिमाही प्रेम संबंधों के लिए बहुत अच्छा रहने की संभावना बन रही है। विवाहितों के विवाहेतर प्रेम संबंध बनने की भीसंभावना है। इसलिए आप जो भीकरें उसके परिणामों को मद्देनजर रखते हुए ही करें। अक्तूबर से दिसंबर तक का समय कुछ उतार-चढ़ाव बना रह सकता है। प्रेम संबंधों को बनाए रखने के लिए आपको दिसम्बर में अनेको बार प्रयास करने पड़ सकते हैं।

स्वास्थ्य :- हैल्थ और फिटनेस के नजरिये से साल के पहले तीन महीने परेशानी •ारे हो सकते हैं, क्योंकि आपके राशि स्वामी शुक्र अष्टम •ााव में गोचर कर रहे हैं और मंगल व शनि से दृष्टि भी हो रहे हैं। जनवरी में शुक्र वक्री अवस्था में भी रहेगें। दो पाप ग्रहों की दृष्टि व वक्री अवस्था, शारीरिक परेशानियों के साथ मानसिक परेशानियों को भी बरकरार रख सकती है। मार्च माह से आपके स्वास्थ्य में सुधार होना आरं•ा हो जाएगा। इसके बाद के तीन माह आपके अनुकूल हैं। जून में   आपको स्वास्थ्य में गिरावट का अनु•ाव हो सकता है, खासकर जिन्हें पथरी की समस्या है उन्हें पेट में दर्द की शिकायत रह सकती है। जुलाई से सितंबर तक शरीर में बने आलस्य को दूर करने के लिए आप योग तथा ध्यान का सहारा ले सकते हैं। अक्टूबर का आरं•ा आपकी खराब सेहत से हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने से और लापरवाही ना बरतने से आपको कुछ राहत अवश्य मिल सकती है। स्वास्थ्य सम्बंधी परेशानियों से बचने के लिये आपको सुबह अथवा संध्या समय में शुक्र स्तोत्र का पाठ अवश्य करना चाहिए। 

शिक्षा:- विद्यार्थियों के लिए वर्ष की पहली तिमाही के सामान्य बने रहने की संभावना है। दूसरी तिमाही में आपकी बुद्धि भ्रमित रह सकती है। तीसरी तिमाही से आप अपनी पढ़ाई में मन लगाना आरंभकर सकते हैं और सभीके लिए आदर्श साबित हो सकते हैं। पढ़ाई के अलावा आप अन्य प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेकर अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। इस समय आपका भाग्य आपके साथ हर क्षेत्र में बना रह सकता है। वर्ष की यह अंतिम तिमाही आपके लिए अनुकूल ही रहने की संभावना अधिक बनती है। आप इस समय अपने मनोनुकूल फलों को प्राप्त कर सकते हैं। जिन छात्रों का कैम्पस इन्टरव्यू चल रहे हैं उनके लिए समय पक्ष में रहेगा और उनका चयन आगे नौकरी के लिए किया जा सकता है। यह तिमाही आपके पक्ष में रहेगी इसलिए बेहतर यही होगा कि आप इसका भरपूर लाभउठाएँ।

सामान्यतया :- परिवार के नजरिये से आपकी जन्म कुंडली में शनि का गोचर आपके चंद्रमा से बारहवें भाव में हो रहा है, इससे आपकी कुंडली में शनि की साढ़ेसाती का पहला भाग आरंभहो ही चुका है। गोचर के शनि की तीसरी दृष्टि आपके कुटुम्ब भाव पर पड़ने से परेशानियों का तथा कलह क्लेश का सामना आपको करते रहना पड़ सकता है। वर्ष की पहली तिमाही के इस भाग में मंगल की चतुर्थ दृष्टि भीआपके कुटुम्ब में लड़ाई-झगड़े कराने का काम कर सकती है। इसलिए आपको इस तिमाही को सामंजस्य तथा तालमेल से गुजारने का प्रयास करना चाहिए। साल की दूसरी तिमाही भीबहुत सकून देने वाली नहीं है। परिवार में हर रोज किसी ना किसी बात को लेकर झगड़े बने रह सकते हैं और वातावरण में अशांति बनी रह सकती है। वर्ष की अंतिम तिमाही के पहले भाग में आप अपनी जिम्मेदारियों का अनुभव कर सकते हैं और जिन कामों को आप इतने समय से टालते आ रहे हैं उन्हें पूरा करने का बीड़ा उठाएंगे। अपने उत्तरदायित्वों का निर्वाह करने में ही आपका समय ज्यादा बीत सकता है।यात्रा के नजरिये से वर्ष की पहली तिमाही मिश्रित फल प्रदान कर सकती है। इस तिमाही का पहला भाग आपकी व्यवसायिक यात्राओे के लिए अनुकूल कहा जा सकता है। वर्ष की तिमाही का यह दूसरा भाग आपकी यात्राओं के लिए अच्छा नही कहा जा सकता है। इन यात्राओं के दौरान आपकी कीमती वस्तु के खोने की भीसंभावना बन रही है। तीसरी तिमाही का आरंभसमय आपकी यात्राओं के लिए अनुकूल नहीं कहा जा सकता है लेकिन मध्य समय को आपके पक्ष में कहा जा सकता है. तिमाही के मध्य भाग में आप परिवार के साथ यात्राओं पर जा सकते हैं और आनंद का अनुभव भीकर सकते हैं। साल के आखिरी तिमाही का पहला भाग आपके लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता है क्योकि इस समय आपकी यात्राओं में बाधाओ का सामना अधिक करना पड़ सकता है। अंतिम भाग में परिवार को लेकर आप किसी समारोह में शामिल होने के लिए यात्राएं कर सकते हैं।

 उपाय:- आपके ऊपर शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव आरंभहो गया है इसलिए आपको शनि से संबंधित मंत्र जाप तथा स्तोत्र अवश्य करने चाहिए। आप हर शनिवार को संध्या समय में, जब सूरज छिप चुका हो लेकिन अंधेरा ना हुआ हो, पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीया जलाना चाहिए. यह तेल और दीपक आप अपने घर से लेकर जाएं, शनिवार के दिन खरीदें नहीं। दीपक जलाने के बाद पेड़ की परिक्रमा सात बार करें। यदि आप शाम को नहीं जा सकते हैं तब आप सुबह के समय में भीजा सकते हैं। सुबह के समय सूरज निकलने से पहले लेकिन जब अंधेरा ना हो तब आप एक लोटे में जल लें और उसमें काले तिल या साबुत उड़द के दाने डालकर पीपल की जड़ में दें और जहाँ मिट्टी गीली हो जाएगी वहाँ से मिट्टी का तिलक अपने माथे पर कर लें। इसके साथ ही आप शनिवार के दिन एक माला शनि मंत्र की करें और शनि स्तोत्र का पाठ 11 बार करें। हर मंगलवार व शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ सात बार करें।

 

 



 

 

 


 


 


 

 

 

 


 

 

 


 

 

 


 

 


 

 

 

 

 

 



Share this post

Submit Annual Predictions in Delicious Submit Annual Predictions in Digg Submit Annual Predictions in FaceBook Submit Annual Predictions in Google Bookmarks Submit Annual Predictions in Stumbleupon Submit Annual Predictions in Technorati Submit Annual Predictions in Twitter