10 मुखी रुद्राक्ष (10 mukhi rudraksha) को स्वयं भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त है | साथ ही साथ इसे यमराज और दस

नवरात्र के नवमी (Navmi) तिथि को हवन करने की मान्यता है । इस दिन आप तिल, जौ और गुग्गुल को मिलाकर हवन

धर्म ग्रंथों के अनुसार हनुमान जंयती (Hanuman Jayanti) को भगवान हनुमान के जन्‍म के उपलक्ष्‍य में चैत्र मास के पू्र्णिमा को मनाया

भारतीय ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य का राशि परिवर्तन करना एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के

14 अप्रैल को सुबह 8 बजकर 28 मिनट पर सूर्य मीन राशि से परिवर्तित होकर मेष राशि में आ रहे हैं। ज्योतिष

नवरात्र के तीसरे दिन मां दुर्गा के तीसरे स्वरुप की उपासना की जाती है । इस दिन मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप

चैत्र नवरात्र (Navratra) के दूसरे दिन मां दुर्गा के दूसरे स्वरुप, मां ब्रह्मचारिणी का पूजन किया जाता है । मां दुर्गा का

हिंन्दू धर्म के अनुसार अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) वैशाख मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीय तिथि को मनाई जाती है। माना जाता

ज्योतिष के अनुसार 12 राशियों और 9 ग्रहों का वर्णन मिलता है। ये सभी 12 राशियाँ इन सभी 9 ग्रहों के द्वारा

आज का दिन आप सभी के लिए बहुत शुभ रहेगा क्योकि आज के दिन शुक्ल योग बन रहा है, जो की शुभ

ब्रहमा, विष्णु और महेश तीनो का वास तीन मुखी रुद्राक्ष (3 mukhi rudraksha) में होता है | तीन शक्तियां यानि- लक्ष्मी, सरस्वती

देवेश्वर  कहे जाने वाले दो मुखी रुद्राक्ष (Rudraksha) में शिव पार्वती दोनों का वास माना जाता है |  यह रुद्राक्ष काफी दुर्लभ