शारीरिक और मानसिक बिमारियों में असरदार होते हैं ये रत्न

कईं सदियों से रत्नों का इस्तेमाल हमारी ज़िन्दगियों को बेहतर बनाने के लिए किया जा रहा है | काफी वक़्त पहले रत्नों का इस्तेमाल ज़्यादातर राजा महाराजा लोग सिर्फ अपनी राजशाही दिखाने के लिए नहीं बल्कि अपनी सेहत और अपने राज पाठ कायम रखने के लिए भी किया करते थे |
रत्नो के बारे मैं एक चीज़ और मानी जाती है की ज़्यादातर रत्न शरीर में एनर्जी को बनाये रखने में मदद करते हैं और साथ ही कईं प्रकार की बिमारियों से निजाद पाने में भी मदद करते हैं |
आईये अब हम जानते हैं की कौन कौन से रत्न हमें स्वस्थ रखने मैं मदद करते हैं |
जमुनिआ (Amethyst)
इस रत्न के बहुत शरीरिक फायदे हैं | यह रत्न धारण करने वाले को हिम्मत और शांति मिलती है | यह साथ ही साथ किसी भी प्रकार का डिसऑर्डर और एडिक्शन से भी धारक को दूर रखने में मदद करता है | इसके साथ हे ऐमिथिस्ट रत्न काफी तरह की बिमारियों के इलाज में भी इस्तेमाल होता है |
मोती (Pearl)
मोती रत्न का इस्तेमाल बॉडी का बैलेंस, सुकून , खुशी और पॉजीटिव एनर्जी के लिए किया जाता है | इसका इस्तेमाल डाइजेशन, फर्टिलिटी और हार्ट की बीमारियों को ठीक करने में भी किया जाता है | इस रत्न का इस्तेमाल चर्म रोग और सौंदर्य बढ़ाने के लिए भी कईं ब्यूटी प्रोडक्ट्स में भी होता है|
पन्ना (Emerald)
इसे रत्न को पहन ने से दिमागी शांति मिलती है और तो और यह धारक को आंख, पीठ दर्द और दिल की कईं बीमारियों से भी दूर रखता है |
मूंगा (Coral)
यह रत्न मानसिक शांति के लिए पहना जाता है |इसके ज़रिये धारक का शरीर और नर्वस सिस्टम काबू में रहता है जिसकी वजह से कई बिमारियों से धारक का बचाव होता है |
टाइगर आई (Tiger Eye)
यह रत्न दिखने मैं एकदम किसी सिंह की आँखों की तरह लगता है इसीलिए इसे टिगर्स आई कहा जाता है | इस रत्न के धारक को मानसिक शांति और स्ट्रेंथ के लिए पहना जाता है और साथ ही इसकी मदद से रिश्तों में आने वाले उतार चढाव से बचा जा सकता है |

If you are suffering from any kind of health problem then meet top astrologer in gurgaon Acharya Indu Prakash.

Leave a Comment