Month: October 2019

12 मुखी रुद्राक्ष से प्राप्त होती है सूर्य की कृपा

बारह मुखी रुद्राक्ष (12 mukhi rudraksha) भगवान महा विष्णु का स्वरुप माना गया है| बारह आदित्यों का तेज इस रुद्राक्ष में सम्माहित है इसलिए भगवान सूर्य देव की विशेष कृपा का भी पात्र है यह रुद्राक्ष| बारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने मात्र से असाध्य व भयानक रोगों से मुक्ति मिलती है | ह्रदय रोग, उदार …

12 मुखी रुद्राक्ष से प्राप्त होती है सूर्य की कृपा Read More »

कैसे हुई माता अन्नपूर्ण की उत्पत्ति

मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा को सुख-सौभाग्य तथा समृद्धि को देने वाली माँ  ‘अन्नपूर्णा जयंती’ (Annapurna Jayanti) हर्ष और उल्लास के साथमनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि प्राचीन काल में एक बार जब पृथ्वी पर अन्न की कमी हो गयी थी, तब माँ पार्वती (गौरी) ने अन्न की देवी, ‘माँ अन्नपूर्णा’ के रूप में अवतरित …

कैसे हुई माता अन्नपूर्ण की उत्पत्ति Read More »

कौन है स्कंद, क्या होती है स्कंद षष्टि

यह व्रत भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र स्कंद को समर्पित होने के कारण स्कंद षष्ठी (Skanda Sashti) के नाम से जाना जाता है। जैसे गणेश जी के लिए महीने की चतुर्थी के दिन पूजा–अर्चना की जाती है उसी प्रकार उनके बड़े भाई कार्तिकेय या स्कंद के लिए महीने की षष्ठी के दिन उपवास …

कौन है स्कंद, क्या होती है स्कंद षष्टि Read More »

जब आपस में लड़ पड़े ब्रह्मा, विष्णु और महेश

मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरव की जयंती (Kaal Bhairav Jayanti) के रूप में मनाया जाता है। इसे कालाष्टमी अथवा भैरवाष्टमी भी कहा जाता है। भगवान काल भैरव की पौराणिक कथा के अनुसार कहा जाता है कि अपने आप को श्रेष्ठ बताने के लिये अक्सर दूसरे को कम ताकतवर समझा जाता …

जब आपस में लड़ पड़े ब्रह्मा, विष्णु और महेश Read More »

गुरु नानक जयंती क्यों है इतनी खास

कार्तिक पूर्णिमा के दिन गुरु नानक जी (Guru Nanak Ji) का जन्मदिन मनाया जाता है| 15 अप्रैल 1469 को पंजाब के तलवंडी जो कि अब पाकिस्तान में हैं और जिसे ननकाना साहिब के नाम से भी जाना जाता है, में गुरु नानक ने माता तृप्ता व कृषक पिता कल्याणचंद के घर जन्म लिया| गुरू नानक …

गुरु नानक जयंती क्यों है इतनी खास Read More »

geeta

क्या है गीता जयंती का महत्व

भारतीय धर्म ग्रंथों के अनुसार मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की एकादशी का दिन भागवत गीता (Bhagwat Geeta) जयंती के रूप में प्रति वर्ष मनाया जाता हैं। भागवत गीता का जन्म भगवान कृष्ण के मुख से कुरुक्षेत्र के मैदान में हुआ था। गीता में जीवन का सार हैं जिसे पढ़कर कलयुग में मनुष्य जाति को सही राह …

क्या है गीता जयंती का महत्व Read More »

क्या है विवाह पंचमी खास

भारत में अनेकों राज्यों में विवाह पंचमी (Vivah Panchami) को बड़ी धूमधाम व हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। पौराणिक धार्मिक ग्रथों के अनुसार इस पर्व का उद्गमन भगवान राम ने जनक नंदिनी सीता से विवाह इस पुण्य-पवित्र पंचमी तिथि में किया था। जिस कारण इस परम-पवित्र तिथि को विवाह पंचमी के नाम …

क्या है विवाह पंचमी खास Read More »

महापर्वों में अनोखा पर्व है छठ पूजा

छठ व्रत कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। भविष्य पुराण के अनुसार भगवान सूर्य देव को समर्पित एक विशेष पर्व है। भारत के कई हिस्सों में खास कर यूपी और बिहार में तो इसे महापर्व माना जाता है। शुद्धता, स्वच्छता और पवित्रता के साथ मनाया जाने वाला यह पर्व …

महापर्वों में अनोखा पर्व है छठ पूजा Read More »

इस दीपावली कैसे करें अपने घर में धन वर्षा

दिवाली (Diwali Dhan Varsha) एक ऐसा त्यौहार है जिसे सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया बढ़े हर्ष और भक्तिभाव से मनाया जाता है | यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है | इस त्यौहार से हमें यह सीख मिलती है की अहंकार और बुराई कितनी ही बढ़ी क्यों ना हो …

इस दीपावली कैसे करें अपने घर में धन वर्षा Read More »

chandra dev astrology

इस वर्ष दर्श अमावस्या के दिन बन रहा है यह योग

भारतीय धर्म ग्रंथों में चन्द्रमा की 16वीं कला को ‘अमा’ कहा गया है। चन्द्रमंडल की ‘अमा’ नाम की महाकला है जिसमें चन्द्रमा की 16 कलाओं की शक्ति शामिल है। शास्त्रों में अमा के अनेक नाम आए हैं, जैसे अमावस्या, सूर्य-चन्द्र संगम, पंचदशी, अमावसी, अमावासी या अमामासी। अमावस्या के दिन चन्द्र नहीं दिखाई देता अर्थात जिसका …

इस वर्ष दर्श अमावस्या के दिन बन रहा है यह योग Read More »