आध्यात्मिकहिंदी

जानिये विजया एकादशी व्रत का मह्त्व

Image result for vishnu god

पौराणिक कथाओं के अनुसार एकादशी का बड़ा महत्‍व है। इस बार मार्च महीने की 2 तारीख यानि फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी जो कि विजया एकादशी के नाम से जानी जाति है। इस व्रत के प्रभाव से मनुष्‍य को विजय प्राप्त‍ होती है। यह सब व्रतों से उत्तम व्रत है। इस विजया एकादशी के महात्म्य के श्रवण मात्र से ही हर मानव के समस्त पाप नाश हो जाते हैं।

If you want to know about your horoscope or want to get your horoscope seen by an expert then book an appointment with one of the top astrologer in Gurgaon Acharya Indu Prakash.

कथाओं के अनुसार एकबार देवर्षि नारदजी ने जगत् पिता ब्रह्माजी से कहा महाराज! आप मुझसे फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी व्रत का विधान बताइये। ब्रह्माजी कहने लगे कि हे नारद! विजया एकादशी का व्रत पुराने तथा नए पापों को नाश करने वाला है। इस विजया एकादशी की विधि मैंने आज तक किसी से भी नहीं कही। यह समस्त मनुष्यों को विजय प्रदान करती है।

त्रेता युग में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्रजी को जब चौदह वर्ष का वनवास हो गया, तब वे श्री लक्ष्मण तथा सीताजी ‍सहित पंचवटी में निवास करने लगे। वहाँ पर दुष्ट रावण ने जब सीताजी का हरण ‍किया तब इस समाचार से श्री रामचंद्रजी तथा लक्ष्मण अत्यंत व्याकुल हुए और सीताजी की खोज में चल दिए।

तभी अचानक मार्ग में वकदालभ्य ऋषि मिले और उनसे कहा कि हे राम यदि आप अपनी मनोकामना पूर्ण करना चाहते हो तो  फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी का उत्तम व्रत करने से निश्चय ही आपकी विजय होगी, साथ ही आप समुद्र भी अवश्य पार कर लेंगे। इस व्रत की विधि यह है कि दशमी के दिन स्वर्ण, चाँदी, ताँबा या मिट्टीत का एक घड़ा बनाएँ। उस घड़े को जल से भरकर तथा पाँच पल्लव रख वेदिका पर स्थापित करें। उस घड़े के नीचे सतनजा और ऊपर जौ रखें। उस पर श्रीनारायण भगवान की स्वर्ण की मूर्ति स्थापित करें। एका‍दशी के दिन स्नानादि से निवृत्त होकर धूप, दीप, नैवेद्य, नारियल आदि से भगवान की पूजा करें।द्वादशी के दिन नित्य नियम से निवृत्त होकर उस घड़े को ब्राह्मण को दे दें। हे राम यदि तुम भी इस व्रत को सेनापतियों सहित करोगे तो तुम्हारी विजय अवश्य होगी। श्री रामचंद्रजी ने ऋषि के कथनानुसार इस व्रत को किया और इसके प्रभाव से दैत्यों पर विजय पाई। यदि जो कोई भी मनुष्य विधिपूर्वक इस एकादशी व्रत करता है तो , दोनों लोकों में उसकी अवश्य विजय होगी। श्री ब्रह्माजी ने नारदजी से कहा था कि हे पुत्र! जो कोई इस व्रत के महात्म्य को पढ़ता या सुनता है, उसको विजय यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

यदि आप अपने भौतिक जीवन से सम्बंधित किसि भी समस्या से घिरे हैं तो आप विश्व विख्यात ज्योतिषाचार्यइन्दु प्रकाश जी द्वारा जानकारि प्राप्त कर समस्या का सामाधन प्राप्त कर सकते हैं।

Get the vastu of your house or office checked by the best vastu consultant in gurgaon acharya Indu Prakash.

Leave a Response