वरलक्ष्मी व्रत 2023 का महत्व

वरलक्ष्मी व्रत 2023: जानिए कब रखा जाएगा व्रत, महत्व, कथा और शुभ मुहूर्त

वरलक्ष्मी व्रत 2023: भारतीय संस्कृति में धार्मिक त्योहारों का अपार महत्व है। यह त्योहार हमारे समाज की संस्कृति और रीति-रिवाज को निर्माण करते हैं और हमें परंपरागत मानसिकता और समरसता का अनुभव करने का मौका देते हैं। वरलक्ष्मी व्रत एक ऐसा ही पर्व है जो हिंदू महिलाओं के बीच विशेष रूप से प्रचलित है। इस व्रत को धर्मिक और सांस्कृतिक महत्व के साथ 25 अगस्त 2023 को मनाया जाएगा। इस ब्लॉग में, हम वरलक्ष्मी व्रत के महत्व, कथा, और शुभ मुहूर्त के बारे में जानेंगे।

महत्व: वरलक्ष्मी व्रत 2023

वरलक्ष्मी व्रत हिंदू महिलाओं के बीच सबसे अधिक मान्यता प्राप्त व्रतों में से एक है। यह व्रत माँ लक्ष्मी की पूजा और आराधना का एक विशेष दिन है। लक्ष्मी देवी धन, समृद्धि, सौभाग्य, सफलता और शक्ति की प्रतिष्ठित देवी हैं, और इस व्रत के द्वारा भक्त उनसे अपने जीवन में समृद्धि और धन की प्राप्ति की प्रार्थना करते हैं। वर्ष के इस विशेष दिन, महिलाएं और उनके परिवार द्वारा लक्ष्मी माता की पूजा की जाती है और उन्हें भोजन कराया जाता है। इस व्रत का धार्मिक महत्व है कि यह महिलाओं को उनके परिवार और समाज के साथ मिलजुल के महत्व को समझाता है और उन्हें भगवान लक्ष्मी के आशीर्वाद के लिए प्रेरित करता है।

वरलक्ष्मी व्रत 2023
महत्व: वरलक्ष्मी व्रत 2023

कथा: वरलक्ष्मी व्रत

2023 वरलक्ष्मी व्रत की कथा महत्वपूर्ण है और इसके पीछे एक रोचक कथा है। कहते हैं कि एक बार महिषासुर नामक राक्षस बहुत शक्तिशाली था और वह स्वर्ग और पृथ्वी का विरोधी था। उसने देवों को भी अपनी दासता में ले लिया और स्वर्गलोक को अपने वश में किया। इस पर देवता नाराज होकर भगवान विष्णु के पास गए और उन्हें इस समस्या का समाधान करने के लिए प्रार्थना की। भगवान विष्णु ने देवताओं को बताया कि उन्हें देवी लक्ष्मी की आराधना करनी चाहिए, क्योंकि उनके आशीर्वाद से ही महिषासुर का वध हो सकता है।

तब से, देवताओं ने वरलक्ष्मी व्रत का आयोजन किया और महिषासुर का वध किया गया। इससे पहले उसने वरदान मांगा था कि उसका वध उस दिन हो जिस दिन लक्ष्मी देवी की पूजा की जाती है, इसलिए यह व्रत उसी दिन मनाने का निर्णय लिया गया। इस कथा से यह साबित होता है कि वरलक्ष्मी व्रत का महत्व राक्षस महिषासुर के पराजय और भगवान लक्ष्मी के आशीर्वाद के रूप में है।

शुभ मुहूर्त: वरलक्ष्मी व्रत 2023

2023 वरलक्ष्मी व्रत को विशेष मुहूर्त पर मनाने से इसका फल और भी शुभ होता है। वर्ष 2023 में वरलक्ष्मी व्रत का आयोजन 25 अगस्त को होगा। इस दिन व्रत का आयोजन करने के लिए शुभ मुहूर्त निम्नलिखित हैं:

  • व्रत का आरंभ: 25 अगस्त 2023, सुबह 5:57 बजे से 8:26 बजे तक
  • व्रत का समापन: 25 अगस्त 2023, दोपहर 1:55 बजे से 4:25 बजे तक

इस मुहूर्त के दौरान, वरलक्ष्मी व्रत का आयोजन करने से व्रत का फल और भी सुखद होता है और भगवान लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है। इसलिए, यह मुहूर्त व्रत का आयोजन करने के लिए बहुत उपयुक्त होता है।

वरलक्ष्मी व्रत 2023
शुभ मुहूर्त: वरलक्ष्मी व्रत

विधि: व्रत 

वरलक्ष्मी व्रत की आयोजन की विधि बहुत सरल है और इसे घर पर ही संपन्न किया जा सकता है। इस व्रत को पूर्ण करने के लिए निम्नलिखित कदम अनुसरण किए जा सकते हैं:

  • व्रत प्रारंभ: सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ सफाई करें। फिर आरती या इस्पेशल पूजा विधि से देवी लक्ष्मी की पूजा करें।
  • लक्ष्मी व्रत कथा सुनें: व्रत के दिन, लक्ष्मी व्रत की कथा सुनें जो वरलक्ष्मी व्रत की महत्वपूर्ण कथाओं में से एक है।
  • व्रत कथा पढ़ें: कई लोग व्रत के दिन विशेष पौधे जैसे कि कटहल, बरगद, बरी और तुलसी के पत्ते से भगवान लक्ष्मी की पूजा करते हैं। आप भी इस व्रत में इन पौधों के पत्तों से पूजा कर सकते हैं।
  • नैवेद्य: विशेष प्रकार के प्रसाद बनाएं और भगवान लक्ष्मी को अर्पित करें। हलवा, पुरी, कटहल की सब्जी, मिठाई और फल प्रसाद में शामिल किए जाते हैं।
  • धन-धान्य का दान: व्रत के दिन धन और धान्य का दान करें, जैसे कि धान, गेहूं, चावल, शक्कर आदि।
  • संतोष और समरसता: व्रत के दिन सभी सदस्यों को व्रती के साथ संतोषपूर्वक बिठाएं और मिलजुल के साथ व्रत के फल का भोजन करें।
  • व्रत समापन: व्रत के दिन की सारी पूजा-अर्चना के बाद, भगवान लक्ष्मी को प्रार्थना करें और व्रत को समाप्त करें।
वरलक्ष्मी व्रत 2023
विधि: वरलक्ष्मी व्रत 2023

इन धार्मिक और सांस्कृतिक रीति-रिवाजों के माध्यम से, हमारी समाज में समरसता और शांति का माहौल बना रहता है और हमें भगवान लक्ष्मी के आशीर्वाद से धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

समाप्ति

वरलक्ष्मी व्रत 2023 को हर भक्त अपनी श्रद्धा और भक्ति के साथ मनाएगा और माँ लक्ष्मी से अपने जीवन को समृद्ध और सफल बनाने की प्रार्थना करेगा। यह व्रत हमारे जीवन को संपन्नता और खुशियों से भर देने के लिए एक अद्भुत अवसर है। वरलक्ष्मी व्रत विशेष रूप से हमारी समृद्धि, धन, सौभाग्य, और समस्त शुभकामनाएं प्रदान करता है। इस व्रत को सम्पन्न करके हम समरसता और एकता के साथ समाज के भले कल्याण का समर्थन करते हैं और अपने जीवन में खुशियों की बौछार को आमंत्रित करते हैं।

वरलक्ष्मी व्रत पर्व के द्वारा हम सभी को भगवान लक्ष्मी की कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने का अवसर मिलता है। हम इस पर्व के अवसर पर अपने अंतर्निहित भावों को निकालें, और समृद्धि और धन के साथ समृद्ध जीवन का आनंद उठाएं।

इस वरलक्ष्मी व्रत शुभ फल पाने के लिए अपनी जन्म कुंडली अनुसार वरलक्ष्मी का व्रत रखे। यह व्रत बहुत ही लाभदायक साबित हो सकता है और आपका भाग्या पूरी तरह बदल सकता है। अगर इस व्रत को पूरे विधि विधान के साथ किसी विश्व प्रसिद्ध ज्योतिष आचार्य की मदद से कुंडली अनुसार किया जाये तो। आप किसका इंतज़ार कर रहे है, अपने व्रत को और भी लाभदायक बनाने के लिए अभी संपर्क करे इस (+91)9971-000-226 पर।

इस पर्व की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं! भगवान लक्ष्मी के आशीर्वाद से आपके जीवन को समृद्ध और सफलता से भर दे!

Leave a Comment