Uncategorized

रक्षा बंधन 2022 शुभ मुहूर्त समय

रक्षा बंधन 2022

रक्षा बंधन 2022 भाइयों और बहनों के लिए एक स्नेही त्योहार है। यह त्योहार अपने भाइयों के प्रति बहनों के प्यार, बंधुत्व और उदात्त भावनाओं के बारे में बताता है। यह एक दूसरे के प्रति प्रेम की निस्वार्थ और पवित्र भावना के माध्यम से भाइयों और बहनों के बंधन को और भी मजबूत करने का अवसर है।

इस दिन बहनें अपने भाइयों की दीया, रोली, चावल, राखी और पसंदीदा मिठाई रखकर पूजा की थाली तैयार करती हैं। परंपरा है बहने, भाइयों की समृद्धि और लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करती है, जबकि बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं।

भाई हर अच्छे और बुरे समय में अपनी बहन के साथ खड़े रहने के वादे के साथ प्यार को स्वीकार करता है। बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और शुभ मंत्रों का जाप करती है, उसके माथे पर तिलक और चावल लगाती है और उसके सर्वांगीण कल्याण की प्रार्थना करती है।

रक्षा बंधन 2022 का ज्योतिषीय महत्व

रक्षा बंधन का शुभ अवसर 2022 में 11 अगस्त को मनाया जाएगा। ज्योतिषीय रूप से, इस दिन को श्रावण पूर्णिमा कहा जाता है और यह श्रावण मास के अंत का प्रतीक है।

धार्मिक आधार पर, एक पवित्र धागे को सुरक्षा, प्रतिबद्धता और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है। दिलचस्प बात यह है कि चार ग्रह रक्षा बंधन से जुड़े हुए हैं, अर्थात् बृहस्पति, मंगल, सूर्य और चंद्रमा। ये चार ग्रह क्रमशः एक बड़े भाई, एक छोटे भाई, एक पिता और एक माता को दर्शाते हैं।

रक्षा बंधन 2022| Astroeshop| Aipastro| Raksha Bandhan 2022|

 जब कोई भाई अपनी कलाई पर राखी बँधवाता है और अपनी बहन की रक्षा करने का संकल्प लेता है, तो जन्म कुंडली में मंगल की शक्ति होती है। इसी तरह, छोटा भाई या बहन अपने भाई के प्रति जो प्यार और स्नेह दिखाती है, वह जन्म कुंडली में बृहस्पति को शक्ति प्रदान करती है। साथ ही, एक छोटी बहन बड़े भाई-बहन को पितृ या मातृ धारणा में देखती है। उस स्थिति में, सूर्य जो एक पिता का प्रतीक है, और चंद्रमा जो एक माँ का प्रतिनिधित्व करता है, वह भी कुंडलि से प्रभावित होता है।

ज्योतिष शास्त्र की यही खूबी है कि ग्रहों को प्रसन्न करने या मजबूत करने में रिश्तों की अहम भूमिका होती है। वे हमारे नौ ग्रहों को किसी भी अन्य उपाय से बेहतर तरीके से प्रभावित कर सकते हैं। हम अपने करीबी लोगों के लिए जो सम्मान, प्यार, देखभाल और स्नेह दिखाते हैं, वह हमारे ग्रहों को भी मजबूत या कमजोर करता है। यह न केवल आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए बल्कि बिना किसी विशेष उपाय के जन्म कुंडली में समस्याओं को ठीक करने के लिए एक विशेष दिन है। साल भर के लाभों को सुनिश्चित करने के लिए सभी को इस त्योहार का अधिक से अधिक लाभ उठाना चाहिए।

इसी तरह, मंदिर के पुजारी भी अपने धार्मिक भक्तों (यजमान) को पवित्र धागा बांधते हैं और प्रजा राजाओं की कलाई पर ‘रक्षा सूत्र’ बांधती है ताकि उन्हें सभी बुराइयों से बचाया जा सके।

इस वर्ष चंद्रमा द्वारा शासित श्रवण नक्षत्र रक्षा बंधन के दिन पूरे दिन मौजूद रहेगा, जो इसे अन्य समयों की तुलना में अधिक शुभ बनाता है। आप रिश्ते में मातृ प्रेम के बंधन की उम्मीद कर सकते हैं। यदि आप दिन को सही तरीके से मनाते हैं, तो हर गुजरते दिन के साथ भाइयों और बहनों का स्नेह बढ़ता जाएगा, और आपके नौ ग्रह भी आने वाले समय में आपको आशीर्वाद देने के लिए अच्छे कारण खोजेंगे।

रक्षा बंधन 2022 | Raksha bandhan celebration| rakhi| sweets|

हैपी रक्षा बंधन 2022 का ऐतिहासिक महत्व

ऐसा माना जाता है कि महाभारत में वर्णित एक घटना के बाद परंपरा शुरू हुई थी। एक बार श्रीकृष्ण की उंगली में धारदार हथियार से चोट लग गई, उस समय द्रौपदी ने अपनी साड़ी का ढीला सिरा फाड़ दिया और बिना कुछ सोचे-समझे श्री कृष्ण की उंगली के चारों ओर बांध दिया। श्री कृष्ण ने इसे ‘रक्षा सूत्र’ के रूप में स्वीकार किया और बुरे समय में मदद करने का वादा किया।

जब दुशासन ने दुर्योधन के दरबार में उसके कपड़े उतारने की कोशिश की, तो उसने उसकी मदद करके अपना वादा निभाया, श्रीकृष्ण ने उसे एक अंतहीन कपड़ा देकर उसे अत्यधिक अपमान से बचाया।

AstroEshop पर ज्योतिष से बात करके आप अपने भाई-बहन की ज्योतिषीय स्थिति जान सकते हैं।

राखी के लिए ऐस्ट्रोइशोप ज्योतिषीय मार्गदर्शन

प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली के अनुसार उसका शुभ रंग होता है। ऐसा माना जाता है कि जब एक बहन भाई के माथे पर एक विशिष्ट तिलक करती है और एक विशेष रंग के पवित्र धागे को एक सूचक दिशा में बांधती है, तो अनुष्ठान और भी प्रभावी साबित होता है और आपकी कुंडली में बृहस्पति की स्थिति को मजबूत करता है। यह प्रक्रिया नकारात्मक ऊर्जाओं को ठीक करती है और पूरे वर्ष सकारात्मक ऊर्जा एकत्र करती है।

रक्षा बंधन 2022 | rakhi color| astrology| acharya indu prakash Ji|

अपना व्यक्तिगत ऑनलाइन राशिफल यहां प्राप्त करें

मेष

तिलक: सिंदूर या रोली

धागा: लाल

दिशा: पश्चिम

लाभ : जिम्मेदार बनना और गुस्से पर काबू पाना।

व्रष

तिलक: सफेद चंदन

धागा: नीला

दिशा: उत्तर

लाभ: आरामदायक जीवन।

मिथुन

तिलक: केसरी

धागा: हरा

दिशा: उत्तर

लाभ: बुद्धि और ज्ञान प्राप्त करना।

मकर

तिलक: काजली

धागा: काला

दिशा: दक्षिण

लाभ: जीवन में अचानक आने वाली परेशानियों को दूर करने के लिए।

कुंभ

तिलक: सफेद चंदन

धागा: बैंगनी

दिशा: दक्षिण

लाभ: तेज याददाश्त हासिल करने के लिए

मीन

तिलक: हल्दी

धागा: पीला

दिशा: पूर्व

लाभ: मौद्रिक पहलुओं को मजबूत करने के लिए

रक्षा बंधन 2022| Raksha Bandhan 2022| Rakhi celebration| Colors of thread|

रक्षा बंधन 2022 के लिए ज्योतिषीय सुझाव

यदि भाई-बहन एक ही शहर में नहीं रह रहे हैं और व्यक्तिगत रूप से मिलने में असमर्थ हैं, तो एक बहन को भगवान कृष्ण की कलाई पर एक पीला धागा बांधना चाहिए और अपने भाई की लंबी उम्र, कल्याण और समृद्धि के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। वह वैदिक कृष्ण मंत्र का भी पाठ कर सकती हैं।

जीवन में समृद्धि और धन को सुनिश्चित करने के लिए एक और युक्ति है सुबह जल्दी उठना और दैनिक दिनचर्या से मुक्त होना। अब सबसे पहले देव तर्पण करें और अपने व्यापार स्थल और उन चीजों की पूजा करें जिनका आप अपने व्यवसाय में उपयोग करते हैं। अपने कार्यालय और घर के दरवाजे पर पवित्र धागा बांधें। साथ ही उन वस्तुओं पर राखी बांधें जिनका उपयोग आप व्यापार के नियमित कामों में करते हैं।

इसके अलावा, अपनी तिजोरी या उस स्थान की पूजा करना न भूलें जहां आप अपना पैसा रखते हैं। सुरक्षा के लिए सिद्ध श्री यंत्र या कोई अन्य यंत्र स्थापित करने का भी सुझाव दिया गया है।

भाई-बहन के बंधन के इस अद्भुत और स्नेहपूर्ण पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं। यह पर्व आपके जीवन में चारों ओर समृद्धि और भाग्य लाए!

शुभकामनाएं- टीम एस्ट्रोईशॉप

Leave a Response