आध्यात्मिकहिंदी

कौन है लक्ष्मी जी की बड़ी बहन अलक्ष्मी

हम सभी देवी लक्ष्मी को भली भांति जानते हैं | यह देवी अपने भक्तों को धन और समृद्धि प्रदान करती है | इस देवी की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुई थी | पर यह काफी कम लोग ही जानते हैं की देवी लक्ष्मी की कोई बड़ी बहन भी है | देवी लक्ष्मी की बड़ी बहन को अलक्ष्मी (Alakshami) कहते हैं और इनका जन्म समुद्र मंथन के दौरान ही लक्ष्मी जी की उत्पत्ति से पहले हुआ था | इसीलिए यह लक्ष्मी की बड़ी बहन मानी गयी हैं |

अलक्ष्मी देवी अपनी छोटी बहन के विपरीत कष्ट, क्लेश, ताप, दरिद्रता, अपयश आदि का प्रतिक हैं | इस देवी का विवाह एक मुनि से हुआ और विवाह के पश्चात वे देवी अलक्ष्मी (Alakshami) को अपने आश्रम ले गये | देवी अलक्ष्मी मुनि के आश्रम में प्रवेश करने से मना कर देती हैं | इसका कारण पूछने पर अलक्ष्मी कहती हैं की मैं ऐसी जगह पर वास नहीं करती | आगे देवी ने बताया की वह कीस जगह पर वास करती है और कैसे घर में प्रवेश करती हैं |

देवी कहती हैं की जो घर गंदे रहते हों, जहां के लोग हर समय लड़ाई-झगड़ा करते रहते हों, गंदे कपड़े पहनते हों और जहां रहने वाले लोग अधर्म या गलत काम करते हों मैं वहाँ प्रवेश करती हूँ |

अगर हम अपने घरों में भी देवी लक्ष्मी की तस्वीर रखते हैं तो उसका भी हमें खास ख्याल रखना चाहिए | जिस तस्वीर में माता लक्ष्मी उल्लू पर सवार हों उस तस्वीर या मूर्ति को घर में नहीं रखना चाहिए | माना जाता है ऐसी देवी का स्वाभाव चंचल होता है और यह देवी एक जगह नहीं ठहरती | देवी की कोई ऐसी तस्वीर या मूर्ति जिसमे वे खड़ी हों बल्कि ऐसी तस्वीर या मूर्ति रखें जिसमे वे कमल के फुल पर बेठी हों | ऐसी तस्वीर ही भक्त को धन लाभ प्रदान करती है |

अपने जीवन की किसी भी समस्या का समाधान प्राप्त करने के लिए या आचार्य इंदु प्रकाश जी से परामर्श प्राप्त करने के लिए सम्पर्क करें |

Leave a Response