marriage

सुखद वैवाहिक जीवन के लिए लायें मंदारिन बतकें

जीवन में एक साथी होना बहुत ज़रूरी होता है | साथी के होने से जीवन का कठिन रास्ता भी आसान लगने लगता है | और कईं बार साथी मिलने पर भी रिश्ता अच्छे से नहीं चल पाता | फेंग शुई में ऐसी समस्या के लिए घरों में अकर्मण्य बतख (Mandarin Ducks) रखने की सलाह दी […]

सुखद वैवाहिक जीवन के लिए लायें मंदारिन बतकें Read More »

क्या है विवाह पंचमी खास

भारत में अनेकों राज्यों में विवाह पंचमी (Vivah Panchami) को बड़ी धूमधाम व हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। पौराणिक धार्मिक ग्रथों के अनुसार इस पर्व का उद्गमन भगवान राम ने जनक नंदिनी सीता से विवाह इस पुण्य-पवित्र पंचमी तिथि में किया था। जिस कारण इस परम-पवित्र तिथि को विवाह पंचमी के नाम

क्या है विवाह पंचमी खास Read More »

आपके विवाह में विलम्भ क्यों हो रहा है ?

हिन्दू धर्म (Hindu) में शामिल सोलह संस्कारों में से एक है विवाह संस्कार (Marriage) | किसी के भी जीवन में विवाह सबसे बड़ा उत्सव होता हैं | इसमें अग्नि को साक्षी मान वर-वधु एक दुसरे का जीवन भर साथ निभाने का वचन देते हैं | हिन्दू धर्म में विवाह (Marriage) सिर्फ दो लोगों का नहीं

आपके विवाह में विलम्भ क्यों हो रहा है ? Read More »

रिश्तों में मिठास लाता है फिरोजा रत्न

जीवन में हुई हर बड़ी घटना का कारण ब्रहस्पति ग्रह होता है | अगर कुंडली में गुरु कमज़ोर हो तो छोटी परेशानियाँ भी बड़ा रूप ले लेती हैं | ऐसी समस्या से बचने के लिए सबसे अच्छा तरीका है फिरोजा (Firoza) को धारण करना | जिसे Turquoise भी कहा जाता है |  यह गहरे नीले

रिश्तों में मिठास लाता है फिरोजा रत्न Read More »

माता कालरात्रि

नवरात्रि(Navratri) के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना की जाती है । मां कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, देवी काल रात्रि ही महामाया हैं और भगवान विष्णु की योगनिद्रा हैं । इन्होंने ही सृष्टि को एक दूसरे से जोड़ रखा है । देवी काल-रात्रि का वर्ण काजल के समान काले रंग का

माता कालरात्रि Read More »

कन्यादान से बढ़ा कोई दान नहीं

कन्यादान हिन्दू विवाह समारोह में एक ऐसी रस्म है जो हर परिवार को भावुक कर देती है | कन्यादान वह रस्म है जो एक पिता अपनी बेटी की शादी में दूल्हे को सौंप देता है | कन्यादान किसी भी हिंदू शादी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण रस्म है | बाप अपनी घर की लक्ष्मी यानि

कन्यादान से बढ़ा कोई दान नहीं Read More »